तस्कर कर रहे नए प्रयोग, अधिकारी भी दंग, शरीर मे छुपाकर लाते हैं सोना

सूरत एयरपोर्ट पर नौ महीने में दो करोड़ रुपए की तस्करी का सोना पकड़ाया

प्रदीप मिश्रा, सूरत
सोने पर बढ़ी कस्टम ड्यूटी के कारण सोने की तस्करी भी बढ़ रही है। सूरत एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय बने अभी एक साल भी नहीं बीता लेकिन यहां अभी तक अंदाजन 2 करोड़ रुपए के तस्करी के सोने के साथ कई लोगों को पकड़ा जा चुका है। तस्करों ने पहले की अपेक्षा अपनी मोडस ओपरेन्डी भी बदली है। अब वह बैग, लैपटॉप या शर्ट-पेन्ट में नहीं बल्कि गुदामार्ग में छिपाकर सोना ले आते हैं।
सूरत एयरपोर्ट पर शारजांह से सप्ताह में चार बार फ्लाइट आती है। भारत में सोने पर 14 प्रतिशत कस्टम ड्यूटी होने के कारण कई लोग तस्करी का सोना सस्ते में खरीदना पसंद करते हैं। कई बड़े ज्वैलर भी कम कीमत पर कैरियर को तैयार कर लेते हैं और उन्हें कुछ रक म का लालच देकर इस काम के लिए तैयार कर लेते हैं। सूरत जैसे देश में कई एयरपोर्ट हैं जहां कि उन्हें लगता है कि वह सरलता से पार पा जाएंगे। इसलिए वह छोटे अंतरराष्ट्रीय हवाइ अड्डों को ज्यादा पसंद करते हैं। हालाकि एकाध बार वह सफल भी हो जाते हैं, लेकिन इससे उनके हौंसले बुलंद हो जाते हैं। कस्टम अधिकारियों का कहना है कि अब तस्करों ने मोडस ओपरेन्डी बदली है गुदा मार्ग में लाने का तरीका नया सूरत सहित देशभर में अक्टूबर महीने से कुछ ऐसे मामले आये हैं, जिसे देखकर अधिकारी दंग रह गए। पहले तस्कर कपड़े के आस्तिन में ***** में या लैपटॉप अथवा अन्डर वियर आदि में सोना छुपाकर लाते थे, लेकिन अब वह सोने को पेस्ट फॉर्म में बदलकर कैप्सूल बनाकर गुदा में छुपा लेते हैं। बताया जा रहा है कि इस तरह से छिपे सोने पहली बार में जांच में सामने नहीं आते। इनके लिए सोनोग्राफी आदि का सहारा लेते हैं। सूरत में छह से सात मामलों में इस तरह से सोना पकड़ा गया है।जांच में असली खिलाड़ी नही आते सामने
कस्टम अधिकारी ने बताया कि जांच में असली खिलाड़ी नहीं सामने आते। जो पकड़े जाते हैं उन्हे सिर्फ इतना पता होता है कि सूरत में पहुचने के बाद कोई फोन आएगा और जिस स्थान पर सोना देकर आना है। वह उस स्थान पर सोना दे आते हैं। इसके आगे कस्टम अधिकारियों की जांच नहीं बढ़ पाती।
20 लाख रुपए से कम की तस्करी पर सिर्फ बयान
20 लाख रुपए से कम की तस्करी का मामला हो तो अधिकारी सोना जब्त कर लेते हैं और आरोपी के खिलाफ केस बना देते हैं। हालाकि इन्हेें बयान लेकर छोड़ दिया जाता है। इसके दो महीने बाद इन्हें शो-कॉज नोटिस दिया जाता है। 20 लाख रुपए से अधिक की तस्करी पर गिरफ्तार कर लिया जाता है।

Pradeep Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned