किसी ने कहा जेब पर भार, किसी ने कहा विकास के लिए जरूरी

किसी ने कहा जेब पर भार, किसी ने कहा विकास के लिए जरूरी

Pradeep Devmani Mishra | Publish: Sep, 08 2018 10:03:23 PM (IST) Surat, Gujarat, India

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत पर शहरीजनों का मिला-जुला रुख

सूरत

पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतें जहां आम आदमी के लिए मुसीबत बनी हुई है, लेकिन इसे कुछ लोग विकास के लिए जरूरी मान रहे हैं। किसी का कहना है कि पेट्रोल की बढ़ती कीमत ने उनका चिंता बढ़ा दी है तो किसी का कहना है कि देश का विकास करना है तो पेट्रोल की बढ़ती कीमत की चिंता नहीं करनी चाहिए।

देश के विकास के लिए जरूरी
पेट्रोल की बढ़ती कीमत रोक पाना किसी के बस की बात नहीं। पिछली सरकार के दौरान भी तेजी से दाम बढ़े थे। वर्तमान सरकार इसे नियंत्रण में करने का प्रयास कर रही है, लेकिन उनकी भी अपनी सीमा है। मेरे ख्याल से लोगों को पेट्रोल की कीमत पर चिंता नहीं करनी चाहिए। सरकार पूरा प्रयास कर रही है।
जिगर भगत

आम आदमी के लिए दिक्कत
पेट्रोल की बढ़ती कीमत ने आम आदमी के लिए दिक्कतें बढ़ा दी हैं। लोगों की जेब पर असर पड़ रहा है। आम आदमी को केन्द्र सरकार से बड़ी उम्मीदें हैं। यदि अभी भी पेट्रोल की कीमत पर रोक नहीं लगी तो सामान्य आदमी की मुसीबत बढ़ जाएगी। डीजल की बढ़ती कीमत के कारण सभी चीज महंगी हो जाएंगी।
दर्शन माह्यावंशी

ध्यान दे सरकार
पेट्रोल की बढ़ी कीमत के कारण लोगों को मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। सरकार को इस पर कड़ा कदम उठाते हुए कीमत कम करने का काम करना चाहिए। सरकार को इस मुद्दे पर गंभीरता से काम करना चाहिए।
प्रवीण गुप्ता

कोई फर्क नहीं पड़ता
पेट्रोल की कीमत में पच्चीस-पचास पैसे बढऩे से कोई फर्क नही पड़ता। यह पैसे देश के विकास के लिए जरूरी है। मेरा व्यक्तिगत मानना है कि पेट्रोल की कीमत 80 रुपए नहीं बल्कि 1000 रुपए भी प्रति लीटर पहुंच जाए तो भी मैं इसे खरीदूंगा। जो लोग परेशान होने की बात करते हैं वह व्यर्थ ही चिंता कर रहे हैं।
सुनील पटेल

बहुत चिंताजनक स्थिति
सरकार की हाथ से सरक रही परिस्थिति देश के लिए चिंताजनक है। यदि देश का विकास करना है तो सरकार को पहले पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर नियंत्रण पाना होगा। आम आदमी के लिए चिंताजनक स्थिति बन रही है।
चिन्मय पटेल

Ad Block is Banned