scriptSPECIAL NEWS: Big place of social concern, Netaji's applause too | SPECIAL NEWS: सामाजिक सरोकार की बड़ी जगह, नेताजी की भी वाह-वाही | Patrika News

SPECIAL NEWS: सामाजिक सरोकार की बड़ी जगह, नेताजी की भी वाह-वाही

-जन्मोत्सव पुरानी राजनीतिक परम्परा मगर जरुरतमंद के बीच सेवा सेतू बांधने की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डेढ़ दशक पहले की
-गुजरात के अकेले सूरत में कई छोटे-बड़े नेता के जन्मदिन पर होते हैं कई-कई कार्यक्रम, उनके लिए शक्ति प्रदर्शन और जरुरतमंदों को मिलती है आवश्यक मदद

सूरत

Published: May 11, 2022 09:13:44 pm

सूरत. पुरानी राजनीतिक परम्परा में कुछ नयापन राजनेताओं के बर्थडे सेलिब्रेशन में सामाजिक सरोकार के रूप में शामिल हो गया है। छोटे-बड़े सभी नेताओं के लिए सामाजिक सरोकार शक्ति प्रदर्शन का रूप बनता जा रहा है तो इस बहाने जरुरतमंदों की बड़ी आबादी का भी भला होता जा रहा है। जन्मदिन उत्सव के रूप में मनाने की पुरानी राजनीतिक परम्परा में सामाजिक कार्यक्रमों को शामिल करने की नई परम्परा डेढ़-पौने दो दशक पहले गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरू की, जो कि आज गली-मोहल्ले तक पहुंच गई है।
एक पुरानी राजनीतिक मान्यता है कि नेता वो ही दमदार है जिसके पास गिनाने के लिए सबसे ज्यादा माथे हैं अर्थात जिसके जितने ज्यादा समर्थक, वो उतना ही बड़ा नेता। हालांकि पहले समर्थकों की भीड़ जुटाने और शक्ति प्रदर्शन करने के बहाने भी छोटे-बड़े नेताओं को कम ही मिल पाते थे, लेकिन अब यह बहाना अथवा अवसर उन्हें प्रत्येक वर्ष अपने ही जन्मदिन पर मिलने लगा है। नतीजन प्रदेश व जिलेे की छोडि़ए गली-मोहल्ले में भी जन्मदिन के उत्सव मनाते राजनीतिक महत्वाकांक्षी लोग नजर आने लगे हैं। गुजरात में बड़े पैमाने पर राजनीतिक क्षेत्र में सक्रिय नेता-कार्यकर्ता जन्मदिन पर उत्सव मनाते हैं और इसमें खास तौर पर सामाजिक कार्यक्रमों का ताना-बाना अवश्य वे बुनते हैं और बड़े नेताओं को बुलाते हैं।
SPECIAL NEWS: सामाजिक सरोकार की बड़ी जगह, नेताजी की भी वाह-वाही
SPECIAL NEWS: सामाजिक सरोकार की बड़ी जगह, नेताजी की भी वाह-वाही
-भाजपा में चरम, कांग्रेस हाशिए पर

सेवा मार्ग का पथ प्रदर्शक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मानते हुए पार्टी कार्यकर्ता स्वयं को इसका पथिक मानते हुए जन्मदिन का उत्सव उन लोगों के बीच मनाते हैं जिन्हें कई मायनों से जरूरत है। भाजपा में सामाजिक सरोकार से जन्मदिवस उत्सव की नई परम्परा पूरे चरम पर है तो कांग्रेस का प्रदर्शन इस मामले में हाशिए पर उतरा हुआ है। कार्यकर्ताओं को यह प्रदर्शन पार्टी में शक्ति के रूप में भी केंद्रित करता है और यहीं बड़ी वजह है कि भाजपा में ज्यादा से ज्यादा इस तरह के जन्मदिन उत्सव के आयोजन होते हैं।
-राजनीतिक पकड़ दिखती है मजबूत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सामाजिक सरोकार के साथ जन्मदिन मनाने की नई व अच्छी राजनीतिक परम्परा प्रारम्भ की है। इसमें ना केवल पार्टी को लाभ होता है बल्कि नेता की मजबूत राजनीतिक व जमीनी पकड़ भी दिख जाती है।
शेषमणि पांडे, राजनीतिक विश्लेषक
-युवा होने का कुछ अलग तरह का एहसास

18 साल की उम्र में प्रवेश के मौके पर जन्मदिन रक्तदान शिविर के साथ मनाया और इसमें केवल अपने ही मित्रों को रक्तदान के लिए शामिल किया। यह युवा होने का एहसास कुछ अलग तरह का था जो सभी को अच्छा लगा।

हर्ष हाकिम, बीबीए छात्र,

-कार्यकर्ताओं की कसौटी अधिक

पार्टी नेता के जन्मदिन पर आयोजित कार्यक्रमों को बेहतर व सफल बनाने की जिम्मेदारी कार्यकर्ताओं पर होती है और यहीं उनके आगे बढऩे का मार्ग भी प्रशस्त करती है। ऐसे आयोजन पार्टी कार्यकर्ताओं की कसौटी ही अधिक साबित होते हैं।

सनी राजपूत, मंत्री, भाजयुमो सूरत महानगर इकाई

-सामाजिक संगठनों को भी फायदा

अंतिम व्यक्ति तक सेवा लाभ पहुंचाने को तत्पर सामाजिक संगठनों को जन्मदिन समारोह का खूब लाभ मिलता है। नेताओं से प्रेरित होकर छोटे-बड़े कार्यकर्ता भी ऐसे आयोजन करते हैं और सामाजिक संगठनों का लोकसेवा का उद्देश्य पूरा हो जाता है।

ललित शर्मा, महामंत्री, सेवा फाउंडेशन

-मिल जाती है कई तरह की छोटी-बड़ी मदद

सत्ता के सहारे नेता जन्मदिन पर रोजगार मेला, सरकारी योजनाओं के लाभार्थ शिविर के अलावा रक्तदान शिविर, स्वास्थ्य जांच शिविर, नेत्रजांच शिविर, दिव्यांग सहायता शिविर समेत अन्य कई तरह के आयोजन करते हैं। इसमें उन्हें सरकारी व स्वयंसेवी संगठनों का सहयोग भी भरपूर मिल जाता है और एक ही जन्मदिन उत्सव में सैकड़ों-हजारों जरुरतमंदों को कई तरह के लाभ मिल जाते हैं। हाल ही में गुजरात भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल के जन्मदिन पर 127 समारोह के आयोजन किए गए।
SPECIAL NEWS: सामाजिक सरोकार की बड़ी जगह, नेताजी की भी वाह-वाही
पार्षद रश्मि साबू के जन्मदिन पर आंगनवाड़ी में आयोजित कार्यक्रम में शामिल महिलाएं। फाइल फोटो IMAGE CREDIT:
-कार्यक्रमों की होती है लम्बी फेहरिश्त

-जन्मदिन उत्सव के दौरान छोटे-बड़े नेताओं के सामाजिक सरोकार के आयोजन सुबह से देर शाम तक होते हैं। इसमें श्रमिकों को भोजन, स्वास्थ्य जांच, सभी तरह की सरकारी योजनाओं की जानकारी व लाभ हेतू काउंटर, मंदिर, गौशाला, वृद्धाश्रम, अनाथाश्रम, कच्ची बस्ती आदि में सेवा कार्यक्रम, सेल्फ डिफेंस, बुजुर्ग अभिवादन, स्वनिर्भरता के लिए आवश्यक सामग्री वितरण समेत अनेक आयोजन शामिल होते हैं। इसमें रक्तदान शिविर के आयोजन भी तेजी से बड़े पैमाने पर शामिल होते जा रहे हैं।
SPECIAL NEWS: सामाजिक सरोकार की बड़ी जगह, नेताजी की भी वाह-वाही
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल के जन्मदिन पर आयोजित रक्तदान शिविर में भाग लेने वाले रक्तदाता फाइल फोटो IMAGE CREDIT:

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

IPL 2022 MI vs SRH Live Updates : रोमांचक मुकाबले में हैदराबाद ने मुंबई को 3 रनों से हरायामुस्लिम पक्षकार क्यों चाहते हैं 1991 एक्ट को लागू कराना, क्या कनेक्शन है काशी की ज्ञानवापी मस्जिद और शिवलिंग...जम्मू कश्मीर के बारामूला में आतंकवादियों ने शराब की दुकान पर फेंका ग्रेनेड,3 घायल, 1 की मौतमॉब लिंचिंग : भीड़ ने युवक को पुलिस के सामने पीट पीटकर मार डाला, दूसरी पत्नी से मिलने पहुंचा थादिल्ली के अशोक विहार के बैंक्वेट हॉल में लगी आग, 10 दमकल मौके पर मौजूदभारत में पेट्रोल अमेरिका, चीन, पाकिस्तान और श्रीलंका से भी महंगाकर्नाटक के राज्यपाल ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक को दी मंजूरी, इस कानून को लागू करने वाला 9वां राज्य बनाSwayamvar Mika Di Vohti : सिंगर मीका का जोधपुर में हो रहा स्वयंवर, भाई दिलर मेहंदी व कॉमेडियन कपिल शर्मा सहित कई सितारे आए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.