राज्य सरकार ने रिलीज की बरसों से अटकी सब्सिडी

सूरत के 50 फीसदी इकाइयों को लाभ, लाभार्थियों में 80 फीसदी टैक्सटाइल इंडस्ट्री से

By: विनीत शर्मा

Published: 26 Jun 2020, 08:54 PM IST

सूरत. उद्यमियों की बरसों से अटकी पड़ी सब्सिडी मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने शुक्रवार को रिलीज कर दी। सरकार के इस फैसले से सूरत के आधे से अधिक इकाइयों को फायदा हुआ है। इनमें 80 फीसदी इकाइयां टैक्सटाइल इंडस्ट्री से जुड़ी हैं। लॉकडाउन के बाद उद्योगों को नए सिरे से खड़ा करने में यह राशि बड़ी मदद साबित होगी।

बीते दो-तीन बरसों से प्रदेश की 13 हजार से अधिक एमएसएमई इकाइयों की 1379 करोड़ रुपए की सब्सिडी अटकी पड़ी थी। इसमें सूरत की 6615 एमएसएमई इकाइयों की लगभग 294 करोड़ रुपये की ब्याज और पूंजी सब्सिडी शामिल थी। उद्यमी लंबे समय से सब्सिडी रिलीज करने की मांग कर रहे थे, लेकिन उनकी सुनी नहीं जा रही थी। दक्षिण गुजरात चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज भी इस मामले को लेकर सरकार से बातचीत कर रही थी।

लॉकडाउन के बाद से अटकी पड़ी सब्सिडी को रिलीज करने की मांग ने ज्यादा जोर पकड़ लिया था। इसकी वजह लॉकडाउन के कारण उद्योगों के बंद रहने से खड़ा हुआ आर्थिक संकट थी। मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने शुक्रवार को वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए डीबीटी प्रणाली से इसे रिलीज कर दिया। चैम्बर प्रमुख केतन देसाई ने कहा कि लॉकडाउन के कारण उद्योगों को आर्थिक संकट से जूझना पड़ रहा है। बरसों से अटकी पड़ी सब्सिडी रिलीज होने से सूरत के उद्योगों को मदद मिलेगी। गौरतलब है कि सूरत का टैक्सटाइल उद्योग शहर की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है और नोटबंदी व जीएसटी के बाद लॉकडाउन ने इसकी कमर तोड़ दी है।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned