वार्ता के बाद शाम को टूटी हड़ताल

आरआरटीएम में 300 रुपए मासिक पास पर बनी सहमति

सूरत. सारोली के राधारमण टैक्सटाइल मार्केट में तीन दिन से जारी पार्सल ठेकेदार व श्रमिकों की हड़ताल सोमवार शाम मार्केट प्रबंधन व सूरत जिला टैक्सटाइल मार्केटिंग ट्रांसपोर्ट लेबर यूनियन के बीच चली वार्ता के बाद टूट गई है। हड़ताल टूटने के साथ ही मार्केट परिसर में पार्सलों की आवा-जाही भी शुरू कर दी गई।
सारोली क्षेत्र के राधारमण टैक्सटाइल मार्केट में गत दिनों मार्केट प्रबंधन की ओर से लोडिंग-अनलोडिंग टैम्पो की आवा-जाही पर पार्किंग चार्ज के साथ रोक लगा दी थी। इससे नाराज पार्सल ठेकेदार व श्रमिकों ने शुक्रवार से मार्केट में हड़ताल कर दी और पार्सल ढोने की गतिविधि बंद हो गई। शुक्रवार का दिन पार्सल ठेकेदार, श्रमिकों व अन्य लोगों के विरोध प्रदर्शन के बीच यूं ही गुजरा और शनिवार को देर शाम वीवर्स व मिल के टैम्पो के लिए सहमति बनी बताई। लेकिन, पार्सल ठेकेदार व श्रमिकों की नाराजगी ज्यों की त्यों बनी रही। इसके बाद सोमवार शाम साढ़े चार बजे मार्केट परिसर में मार्केट प्रबंधन के डेविड, अल्पेश व दक्षेश के साथ सूरत जिला टैक्सटाइल मार्केटिंग ट्रांसपोर्ट लेबर यूनियन के उमाशंकर मिश्रा, गुड्डु उपाध्याय, अंकित मिश्रा, अनूपसिंह आदि के साथ वार्ता शुरू की। घंटेभर चली वार्ता के बाद यूनियन ने हड़ताल समेटने का निर्णय कर लिया। इस संबंध में उमाशंकर मिश्रा ने बताया कि पहले मार्केट परिसर में पार्सल ठेकेदारों से प्रतिदिन के 40 रुपए लिए जाते थे, जिन्हें अब 300 रुपए मासिक पास के रूप में तय किया गया है। शुल्क मामले में सहमति बनने के बाद हड़ताल समेट ली गई और उसके तत्काल बाद मार्केट परिसर में पार्सल ढुलाई शुरू कर दी गई।


रोजाना 250-300 वाहनों की आवा-जाही


राधारमण टैक्सटाइल मार्केट में प्रतिदिन ढाई सौ से तीन सौ मालवाहक वाहनों की आवा-जाही होती है। इसमें ग्रे ताकों से भरे छोटे टैम्पो के अलावा मिल के बड़े टैम्पो व पार्सल ढुलाई के टैम्पो वाहन शामिल है।

Dinesh Bhardwaj
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned