वीएनएसजीयू एनएनएस के विद्यार्थी दक्षिण गुजरात की 75 झुपकड़पतियों को लेंगे गोद

- गरीब और पिछड़े क्षेत्र में शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता की जिम्मेदारी उठाएंगे विद्यार्थी
- सूरत की 20, नवसारी की 7, वलसाड़ की 4 झुपकड़पतियों के साथ दक्षिण गुजरात की अन्य झुपकड़पतियों में विद्यार्थी देंगे सेवा

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 17 Sep 2021, 12:44 PM IST

सूरत.
वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्विद्यालय के विभागों और महाविधियालयों में प्रथम क्षत्र की ऑनलाइन और ऑफलाइन पढ़ाई चल रही है। विद्यार्थी शिक्षा के साथ सामाजिक जिम्मेदारियों का भी महत्व समझ सके इसलिए एक नया प्रयास किया जा रहा है। इसके अंतर्गत वीएनएसजीयू संबध विभाग और कॉलेज के विद्यार्थी दक्षिण गुजरात की 75 झुपकड़पतियों को गोद लेंगे। एनएसएस कोटा में प्रवेश लेनेवाले विद्यार्थी एनएसएस की प्रवृत्ति के साथ इन झुपकड़पतियों में शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता की जिम्मेदारी निभायेंगे।
सूरत के साथ दक्षिण गुजरात की झुपकड़पतियों में रहने वाले लोग कई समस्याओं से जूझ रहे है। इन लोगो को मुख्य प्रवाह में लाने के लिए वीएनएसजीयू की ओर से अनोखा प्रयास किया जा रहा है। आजादी अमृत उत्सव के अंतर्गत कुलपति के मार्गदर्शन में एनएसएस विभाग दक्षिण गुजरात की 75 झुपकड़पतियों को गोद लेगा। यह पर सेवा केंद्र की स्थापना की जाएगी। एनएसएस कोटा में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी इन झुपकड़पतियों में शिक्षा,स्वास्थ्य और स्वच्छता क्षेत्र में सेवा देंगे। इसके साथ सरकारी योजना का फायदा गरीब लोगो को मिले वैसे प्रयास भी किए जाएंगे। इन क्षेत्रों में लघु उद्योगों को भी बढ़ावा दिया जायेगा। हर साल कई विद्यार्थी एनएसएस कोटा से प्रवेश लेते है। इस साल नए सत्र में में झुपकड़पतियों को गोद लेने की योजना बनाई गई है।
- सप्ताह में तीन दिन देना होगा योगदान
वीएनएसजीयू एनएसएस विभाग के एसिस्टेंट प्रोग्राम कॉर्डिनेटर प्रकाशचंद ने बताया कि दक्षिण गुजरात की 75 झुपकड़पतियों को गोद लेने की योजना है। इनमे सूरत की 20, नवासरी की 7 , वलसाड़ की 4, नर्मदा की 4 के साथ अन्य कई जिलों की झुपकड़पतियों को चुना गया है। इन सभी में विद्यार्थियों की टीम बनाकर भेजी जाएगी। सभी टीम में 50 विद्यार्थी होंगे। सभी विद्यार्थियों को सप्ताह के 3 दिन डेढ़ घंटे के अनुसार अपनी सेवा देनी होगी। दक्षिण गुजरात में प्रति साल 24 हजार विद्यार्थी एनएसएस से जुड़ते है। एनएसएस के विद्यार्थियों को केंद्र में रख कर ही ये योजना को बनाया गया है। जिससे विद्यार्थियों में सेवा का भाव उत्पन हो।
--

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned