विचाराधीन कैदी ने की आत्महत्या

तीन महीने से नवसारी सबजेल में बंद विचाराधीन कैदी ने शुक्रवार को अपने हाथ और पैर की नस काटकर आत्महत्या कर ली। इस घटना की जांच सिटी पुलिस कर रही है।जानकारी के अनुसार करीब तीन महीने पहले धारागिरी गांव के इम्तियाज बशीर शेख को गांव के मंदिर परिसर की फेन्सिंग के खंभे को तोड़ दिया था। शिकायत दर्ज होने के बाद ग्रामीण पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। शराब का लती होने व बेकार घूमने के कारण परिजनों से उसका रिश्ता ठीक नहीं था, जिससे किसी ने उसे जेल से छुड़़ाने की कोशिश नहीं की।

By: मुकेश शर्मा

Published: 25 Nov 2018, 11:56 PM IST

नवसारी।तीन महीने से नवसारी सबजेल में बंद विचाराधीन कैदी ने शुक्रवार को अपने हाथ और पैर की नस काटकर आत्महत्या कर ली। इस घटना की जांच सिटी पुलिस कर रही है।जानकारी के अनुसार करीब तीन महीने पहले धारागिरी गांव के इम्तियाज बशीर शेख को गांव के मंदिर परिसर की फेन्सिंग के खंभे को तोड़ दिया था। शिकायत दर्ज होने के बाद ग्रामीण पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। शराब का लती होने व बेकार घूमने के कारण परिजनों से उसका रिश्ता ठीक नहीं था, जिससे किसी ने उसे जेल से छुड़़ाने की कोशिश नहीं की।

वह जेल के बैरक नंबर नौ में सजा काट रहा था। शुक्रवार सुबह उसने बैरक में ब्लेड से अपने हाथ और दोनों पैर की नस काट ली। इसका पता चलते ही जेल प्रशासन ने उसे सिविल अस्पताल पहुंचाया जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। घटना की सूचना मिलने पर सिटी पुलिस ने पहुंचकर मामले की पूछताछ कर जांच शुरू की है। पुलिस ने शव का पोस्टमोर्टम करवाया है और दुर्घटना मौत का मामला दर्ज किया है।

जेल में ब्लेड पहुंचने पर उठे सवाल

सब जेल में कैदियों के पास कोई भी वस्तु पूरी जांच पड़ताल के बाद ही पहुंचती है। कैदी इम्तियाज के पास ब्लेड कहां से पहुंचा इस पर सवाल खड़ा हो गया है। लेकिन जेल प्रशासन इस मामले में कुछ भी बोलने से बच रही है।


कोर्ट के आदेशानुसार होगी जांच : सब जेल में इम्तियाज शेख 22 जुलाई 2018 से था। नस काटने के कारण उसे सिविल अस्पताल में लाया गया था जहां उपचार के दौरान मौत हो गई। सिटी थाने में मामला दर्ज किया गया है और आगे की जांच कोर्ट के आदेशानुसार की जाएगी।एसजी राणा, पुलिस उपाधीक्षक, नवसारी

पिटाई से घायल मजदूर की मौत

कपीलपोर जीआईडीसी की कंपनी में काम करने वाले मजदूरों की साप्ताहिक अखबार के संपादक और उसके साथियों ने पिटाई कर दी। मारपीट में घायल एक मजदूर की मौत के बाद पुलिस ने संपादक और साथियों समेत छह लोगों पर हत्या का मामला दर्ज किया है।

जीआईडीसी क्षेत्र स्थित शिवम एग्रोवेट कार्पोरेशन में यूपी और बिहार के करीब 40 मजदूर काम करते हैं और वहीं रहते हैं। इन मजदूरों में से सुनील कुमार लालजी प्रसाद, मुन्ना राधा मंडल, रामआसरे मंडल, रामलाला दुखी मंडल कंपनी के बाहर नहर के पास शौच के लिए गए थे। वहां से लौटते समय नवसारी बारडोली रोड पर तेज रफ्तार बाइक अचानक स्लिप हो गई। इस दौरान वहां से जा रहे अजीत सिंह जयकिशन सिंह ठाकुर निवासी गणेश सिसोद्रा और उसके साथी सुजीत सिंह ने मजदूरों को घटना के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उनके बीच रास्ते में चलने के कारण ही बाइक सवार गिरा है।

इस बात को लेकर हुई कहासुनी से नाराज अजीत और उसके भाई सुजीत ने मजदूरों को पीटना शुरू कर दिया। इससे डरकर सभी मजदूर कंपनी में भाग आए। आरोप है कि कुछ देर बाद उनके पीछे अजीत, उसका भाई अपने साथी महेश उर्फ मनोज दीपक चौरसिया, राजेश सिंह, संदीप जाधव, आशीष उपाध्याय समेत कई लोगों के साथ वहंा पहुंचे और फिर से मजदूरों को पीटने लगे। इस दौरान अजीत ने मुन्ना मंडल के सिर पर डंडा मार दिया, जिससे वह बेहोश होकर गिर गया। इस दौरान हमलावरों ने कंपनी में भी तोडफ़ोड़ की।

उनके जाने के बाद कंपनी मालिक और सुपरवाइजर को घटना के बारे सूचना देकर मुन्ना मंडल को नजदीकी अस्पताल पहुंचाया। जहां से उसकी मरहम पट्टी के बाद वापस कंपनी में लाया गया। शुक्रवार को मुन्ना की तबियत बिगड़ गई तो उसे नवसारी सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

इस मारपीट में सुनील, राम आसरे, राजेश समेत अन्य मजदूर भी घायल हुए हैं। सुनील प्रसाद की शिकायत पर ग्रामीण पुलिस ने अजीतसिंह ठाकुर और उसके भाई समेत छह लोगों के खिलाफ हत्या, मारपीट, कंपनी में तोडफोड़ समेत धाराओं में मामला दर्ज किया है। आगे की जांच पीएसआई एमएच शेख को सौंपी गई है।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned