सूरत में झमाझम, ओलपाड में दो घंटे में चार इंच बारिश

तीन दिन तक तेज बरिश की चेतावनी, उकाई बांध में आवक जारी

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 05 Sep 2019, 10:07 PM IST

सूरत/बरडोली.

शहर में बुधवार सुबह झमाझम बारिश से कई निचले इलाकों और सडक़ों पर पानी भर गया। सूरत जिले के कामरेज, कीम, ओलपाड, सायण में भी तेज बारिश के कारण जगह-जगह जलभराव के हालात पैदा हो गए। ओलपाड में दो घंटे में चार इंच बारिश हुई और मुख्य बाजार समेत निचले इलाकों में पानी भर जाने से जनजीवन प्रभावित हुआ। कामरेज में बारिश के पानी की निकासी के अभाव से पंचवटी कॉम्प्लेक्स, गोकुलनगर, कामरेज-कीम सर्विस रोड पर पानी भर गया। इससे राहगीरों और वाहन चालकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। ओलपाड वाया वडोली कीम स्टेट हाइवे टूट जाने से यातायात बाधित हो गया।

मौसम विभाग ने अगले तीन दिन भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। विभाग के मुताबिक दो-तीन दिन से सूरत में मानसून फिर सक्रिय हुआ है। अगले तीन दिन दक्षिण गुजरात तथा दिव-दमण, दादरा नगर हवेली क्षेत्र में भारी बारिश हो सकती है। मनपा के फ्लड कंट्रोल रूम से मिली जानकारी के मुताबिक सुबह छह से शाम छह बजे तक सेंट्रल जोन में 46 एमएम, वराछा ए जोन में 27 एमएम, वराछा बी जोन में 12 एमएम, रांदेर जोन में 30 एमएम, कतारगाम जोन में 24 एमएम, उधना जोन में 17 एमएम, लिम्बायत जोन में 59 एमएम और अठवा जोन में 32 एमएम बारिश हुई।

बुधवार को सूरत का अधिकतम तापमान 29.1 डिग्री और न्यूनतम 27 डिग्री दर्ज किया गया। उकाई डेम में पानी की आवक जारी है। बुधवार शाम सात बजे उकाई का लेवल 339.30 फीट दर्ज किया गया। इसका इनफलो 51,902 क्यूसेक और आउटफ्लो भी इतना ही रहा। काकरापार का लेवल 163.90 मीटर दर्ज किया गया।


पेड़ गिरने से तीन कारें दबीं

बारिश के दौरान शहर में दो जगह पेड़ गिरने से वाहनों का नुकसान हुआ है। दमकल विभाग के मुताबिक मजूरा गेट के कैलाशनगर के पास बुधवार दोपहर एक बड़ा पेड़ गिर गया। इससे मुख्य सडक़ से गुजर रही तीन कारें फंस गईं। लोगों ने कार में बैठे लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने में मदद की। मोरा भागल क्षेत्र में भी एक पेड़ गिर गया, लेकिन वहां कोई नुकसान नहीं हुआ।


दो मकान ढहे, कोई जनहानि नहीं

दमकल विभाग को बारिश के दौरान शहर के दो क्षेत्रों में जर्जर मकान ढहने के कॉल मिले। पहला कॉल दोपहर 1.17 बजे मिला। भेस्तान क्षेत्र में एक पुराने मकान की छत ढह गई थी। यह मकान दस साल पुराना था। इसमें कोई नहीं रहता था। रांदेर पांच बत्ती क्षेत्र में भी एक पुराने मकान की छत का हिस्सा ढहने की जानकारी मिली। मनपा द्वारा दोनों मकानों को हटाने का कार्य किया जाएगा।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned