दीक्षा का इतिहास रचा, चौथा शतक पूरा

छह मुमुक्षुओं को रजोहरण, गुरुरामपावनभूमि बनी साक्षी

By: विनीत शर्मा

Published: 25 Apr 2018, 10:27 PM IST

सूरत. सूयपुत्री तापी के किनारे पाल रोड पर गुरुरामपावनभूमि बुधवार को संयम साधना के एक बड़े कीर्तिमान की साक्षी बनी। आचार्य गुणरत्नसूरी महाराज के सान्निध्य में एक साथ छह मुमुक्षुओं ने रजोहरण प्राप्त किया। इसके साथ ही आचार्य के हाथों दीक्षित होने का चौथा शतक पूरा हो गया। इस अनूठे कीर्तिमान के साक्षी बने सैकड़ों श्रद्धालुओं में हर्ष का माहौल रहा।
आचार्य के सान्निध्य में 400वीं दीक्षा के मौके पर तीन दिवसीय 400वां रजोहरण प्रदान महोत्सव की शुरुआत सोमवार से पाल रोड पर

गुरुरामपावनभूमि पर की गई थी। आयोजक शुभमंगल फाउंडेशन ने बताया कि तीन दिवसीय महोत्सव में बुधवार को कनाडा की अप्रवासी महिला, चेन्नई की दो बहनों, मुंबई के पति-पत्नी और राजस्थान के एक युवक समेत छह मुमुक्षुओं ने दीक्षा ग्रहण कर 400वीं दीक्षा का कीर्तिमान पूरा किया। इस कीर्तिमान को एशिया बुक ऑफ रिकाड्र्स, इंडिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स, गुजरात बुक ऑफ रिकॉड्र्स में दर्ज किया गया है। दीक्षा समारोह की शुरुआत तड़के चार बजे की गई। आचार्य गुणरत्नसूरी महाराज के अलावा आचार्य यशोरत्नसूरी महाराज, आचार्य रविरत्नसूरी महाराज, आचार्य रश्मिरत्नसूरी महाराज समेत 12 गुरु भगवंत, चार सौ से अधिक साधु-साध्वियों और सैकड़ों श्रद्धालुओं की मौजूदगी में सभी मुमुक्षूओं ने परिजनों के साथ संयम सदी वाटिका में प्रवेश किया। कई धार्मिक विधि पूरी करने के बाद एक-एक कर सभी मुमुक्षुओं को गुरु भगवंतों ने संयम उपकरण प्रदान किए, जिन्हें हाथ में ग्रहण करते ही मुमुक्षू खुशी से झूम उठे। बाद में सभी पंडाल से कुछ देर के लिए विदा हुए और धवल वेश में लौटे।

यूं चला दीक्षा का क्रम

दीक्षा का चौथा शतक पूरा करने वाले आचार्य गुणरत्नसूरी महाराज ने सूरी प्रेमभुवनभानु समुदाय का गौरव बढ़ाया है। इसके लिए गच्छाधिपति जयघोषसूरी ने उन्हें सूरी प्रेमलब्धप्रसाद पद से विभूषित किया है। महाराज ने पहली दीक्षा 43 साल पहले राजस्थान के सिरोही जिले की पिंडवाड़ा में दी थी। 100वीं दीक्षा राजस्थान के रणकपुर में, 200वीं दीक्षा गुजरात के पालिताणा में तथा 300वीं और 400वीं दीक्षा आचार्य गुणरत्नसूरी महाराज के सान्निध्य में धर्मनगरी सूरत में दी गई।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned