SURAT KAPDA MANDI: सूरत कपड़ा मंडी के ज्वलंत मुद्दों पर की चर्चा

कोरोना काल में सूरत कपड़ा मंडी के बिगड़ते व्यापारिक हालात के मद्देनजर रविवार को सूरत मर्कंटाइल एसोसिएशन की बैठक हुई। बैठक में कपड़ा कारोबार को सुरक्षित और व्यवधान मुक्त रखने के ज्वलंत मुद्दों पर विस्तार से लम्बी चर्चा की गई

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 27 Jun 2021, 08:55 PM IST

सूरत. कोरोना काल में सूरत कपड़ा मंडी के बिगड़ते व्यापारिक हालात के मद्देनजर रविवार को सूरत मर्कंटाइल एसोसिएशन की बैठक हुई। बैठक में कपड़ा कारोबार को सुरक्षित और व्यवधान मुक्त रखने के ज्वलंत मुद्दों पर विस्तार से लम्बी चर्चा की गई। बैठक वेसू में श्रीश्याम मंदिर, सूरतधाम के सामने मनभरी फार्म में रखी गई थी।
बैठक के दौरान कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारियों के सामने बड़ी समस्या के रूप में बिके माल का लम्बे समय से अटका पैमेंट, गुड्स रिटर्न समेत अन्य पर गंभीरता के साथ विचार-विमर्श किया गया। बैठक में कपड़ा व्यापारियों के लिए कई आवश्यक निर्णयों पर भी चर्चा की गई, जिन्हें भविष्य में व्यापार हित में बताया गया। इनमें अनजान व नए व्यापारी से व्यापार करने से बचने, भुगतान के मामले में ग्रेडवाइज व्यापारियों की सूची बनाकर व्यापार करने और पुराने पैमेंट क्लीयर करने, उधार की लिमिट व पैमेंट की समय मर्यादा निर्धारण, अतिरिक्त उत्पादन से बचें, एजेंट/आढ़तिए की पूरी जानकारी के बाद ही व्यापार, माल खरीदने वाले व्यापारी की पूरी जानकारी जरूरी और ऑर्डर बगैर माल नहीं भेजे आदि शामिल है। बैठक के दौरान सूरत मर्कंटाइल एसोसिएशन की कोर कमेटी, वर्किंग कमेटी व पंच पैनल के सदस्य व्यापारियों के अलावा अन्य व्यापारी भी मौजूद रहे। इस दौरान कपड़ा कारोबार के 65 मामले सामने आए और इनमें से 17 मामले व्यापारियों की आपसी सहमति से सुलझाने का दावा एसोसिएशन ने किया है।

-व्यापार देखभाल के बाद करें

सूरत मर्कंटाइल एसोसिएशन की बैठक में सूरत कपड़ा मंडी की बड़ी समस्या गुड्स रिटर्न, लेट पैमेंट व डूबत से बचने के लिए पदाधिकारी व्यापारियों ने बताया कि इसके लिए सूरत कपड़ा मंडी के सभी छोटे-बड़े व्यापारियों को एकजुट होकर बाहरी मंडियों के अच्छे व्यापारियों व अच्छे एजेंट/आढ़तियों के सिवाय सभी से नकद में व्यापार करने की जरूरत आ गई है। इसके अलावा ऑनलाइन व डिजीटल प्लेटफार्म को भी अपने व्यापार का हिस्सा बनाना पड़ेगा।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned