SURAT KAPDA MANDI: अटके पैमेंट की निकासी पर रहा जोर

कपड़ा बाजार खोलने की मंजूरी के बाद साउथ गुजरात टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने रखी बैठक और की विभिन्न विषयों पर चर्चा

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 20 May 2021, 08:49 PM IST

सूरत. 23 दिन बाद सूरत कपड़ा मंडी खुलने के साथ ही हजारों कपड़ा व्यापारियों के समक्ष बाहरी मंडियों में लम्बे समय से रुके पैमेंट को मंगवाने की खासी जरूरत रहेगी। इस अहम मुद्दे पर राज्य सरकार से गुरुवार दोपहर कपड़ा बाजार खोलने की मंजूरी के बाद साउथ गुजरात टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन ने ऑनलाइन मीटिंग में व्यापारियों के साथ मंत्रणा की है।
इस संबंध में एसोसिएशन के अध्यक्ष सांवरप्रसाद बुधिया व महामंत्री सुनीलकुमार जैन ने बताया कि गुरुवार शाम रखी गई ऑनलाइन मीटिंग में डेढ़ सौ से ज्यादा कपड़ा व्यापारी शामिल रहे और लम्बे समय से अटके पैमेंट पर सभी ने बारी-बारी से अपनी राय रखी। इसमें व्यापारियों ने बताया कि सूरत समेत देशभर की कपड़ा मंडियां लम्बे समय से बंद है, सूरत को भले ही शुक्रवार से मंजूरी मिल गई है लेकिन ज्यादातर मंडियां बंद होने से पैमेंट अटका हुआ है और इसकी निकासी फिलहाल 31 मई तक होने की संभावना नजर भी नहीं आ रही है। इसके अलावा अप्रेल में जो पार्सल सूरत कपड़ा मंडी से डिस्पैच किए गए थे वे भी लॉकडाउन की वजह से रास्ते में अथवा ट्रांसपोटर््र्स के यहां अटके पड़े हैं। ऑनलाइन मीटिंग के दौरान साउथ गुजरात टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन के पदाधिकारी व सदस्य कपड़ा व्यापारियों ने कपड़ा कारोबार के अन्य कई विषयों पर भी विस्तार से चर्चा की है। बैठक के अंत में एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष सुरेंद्र जैन ने सभी के प्रति आभार प्रकट किया।

-मिले 30 दिन की मोहलत

ऑनलाइन मीटिंग में अधिकांश कपड़ा व्यापारियों ने पिछले साल के लॉकडाउन में जिस तरह से सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारियों को बाहरी मंडियों से पैमेंट नहीं आने की स्थिति में एक माह की मोहलत दी गई थी, ठीक उसी तरह से इस बार भी मोहलत दिए जाने की बात कही गई है। यह 30 दिन की मोहलत कपड़ा उद्योग के घटक वीवर्स, प्रोसेसर्स, एम्ब्रोयडरी यूनिट्स, वैल्यू एडीशन से जुड़े व्यापारियों से मांगी गई है।

रिटर्न भरने की मियाद बढ़ाई


सूरत. आयकर विभाग ने सर्कुलर (9) के तहत आयकर जमा कराने की सभी तिथियों में फेरबदल किया है। बताया गया है कि एसएफटी 2020-21 की मियाद 31 मई से बढ़ाकर 30 जून की गई है। इसी तरह से टीडीएस रिटर्न क्वार्टर 2020-21 की मियाद 31 मई से बढ़ाकर 30 जून की गई है। आयकर के सामान्य रिटर्न 2020-21 की मियाद 31 जुलाई से बढ़ाकर 30 सितम्बर की गई है। इसके अलावा आयकर के ऑडिट केस 2020-21 की मियाद 30 सितम्बर से बढ़ाकर 30 अक्टूबर तथा आयकर रिटर्न फाइल ऑडिट 2020-21 की मियाद 30 अक्टूबर से बढ़ाकर 30 नवम्बर की गई है। वहीं, इन्कम टैक्स आफ्टर ड्यू डेट 2020-21 की मियाद 31 दिसम्बर 2021 से बढ़ाकर 31 जनवरी 2022 किए जाने की जानकारी दी गई है। यह जानकारी कर सलाहकार नारायण शर्मा ने दी है।

SURAT KAPDA MANDI: अटके पैमेंट की निकासी पर रहा जोर
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned