SURAT KAPDA MANDI: दो मार्केट के व्यापारियों से मिला व्यापारी एकता मंच

कपड़ा कारोबार की मौजूदा परिस्थिति में संगठन के सर्वसम्मति से लिए गए निर्णयों की दी जानकारी

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 17 Mar 2021, 09:04 PM IST

सूरत. कपड़ा बाजार के सात व्यापारिक संगठनों के नवगठित एक संगठन व्यापारी एकता मंच ने अब कमान संभाल ली है और बुधवार को ही रिंगरोड के दो बड़े टैक्सटाइल मार्केट में व्यापारियों के आवश्यक साथ बैठक की है। बैठक में मंच ने कपड़ा कारोबार की मौजूदा परिस्थिति व उसके मद्देनजर सर्वसम्मति से किए गए जरूरी निर्णयों के बारे में विस्तार से जानकारी दी है।
सूरत कपड़ा मंडी के कपड़ा कारोबार में ग्रे माल के उत्पादक वीवर्स और तैयार कपड़े के विक्रेता ट्रेडर्स के बीच नए-पुराने व्यापारिक नियमों को लेकर खींचतान बनी हुई है और उस पर ट्रांसपोर्ट चार्ज के मुद्दे ने आग में घी डालने के समान कार्य किया है। इस मामले में ग्रे उत्पादकों के व्यापारिक संगठन फैडरेशन ऑफ गुजरात वीवर्स एसोसिएशन की बैठकों के दौर के बाद ट्रेडर्स संगठनों ने भी काउंटर बैठकें शुरू कर दी थी। अलग-अलग व्यापारिक संगठनों की बैठकों में अलग-अलग बातें उभरने से सभी सातों संगठनों ने दो दिन पहले सूरत टैक्सटाइल मार्केट के बोर्डरूम में व्यापारी एकता मंच नामक नए संगठन का गठन किया और कपड़ा बाजार की समस्याओं के समाधान में मंच के माध्यम से कार्य करने की सहमति जताई और इसकी संयोजक तौर पर जिम्मेदारी कपड़ा व्यापारी अरविंद वैद को सौंपी गई। इसके बाद मंच ने सक्रियता दिखाते हुए मंगलवार को सभी सातों व्यापारिक संगठनों के दो-दो पदाधिकारियों के साथ बैठक कर निर्णय किया कि बुधवार से ग्रे माल के बिल जब तक 5 प्रतिशत डिस्काउंट व एक प्रतिशत दलाली के साथ नहीं आएंगे तब तक ग्रे डिलीवरी नहीं लिए जाएंगे। इस संबंध में बुधवार शाम को कपड़ा बाजार में कमेला दरवाजा के निकट स्थित रघुकुल टैक्सटाइल मार्केट व मिलेनियम-2 टैक्सटाइल मार्केट में कपड़ा व्यापारियों के साथ बैठक रखी गई। बैठक में व्यापारी एकता मंच के संयोजक अरविंद वैद ने बताया कि कपड़ा बाजार के सभी व्यापारी भाईयों को व्यापार हित में एकजुट रहकर किए गए निर्णयों पर अडिग रहना है। बैठक में अन्य व्यापारियों ने भी संबोधन किया।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned