SURAT KAPDA MANDI: नहीं दिखा भीड़-भड़क्का, शाम को जल्दी दुकानें बंद

-दो दिन के सेल्फ लॉकडाउन के बाद सोमवार खुले कपड़ा बाजार में व्यापारिक चहल-पहल नहीं दिखी, पार्सलों के ढेर अवश्य दिखे

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 19 Apr 2021, 08:19 PM IST

सूरत. वस्त्रनगरी में भयानक रूप लेती जा रही कोरोना की दूसरी लहर से खौफ का असर अब सूरत कपड़ा मंडी समेत शहर में साफ देखने को मिलने लगा है। दो दिवसीय सेल्फ लॉकडाउन के बाद खुले रिंगरोड कपड़ा बाजार में सोमवार को आम दिनों जैसा भीड़-भड़क्का और व्यापारिक चहल-पहल दिखाई नहीं दी, हालांकि पार्सलों के ढेर अवश्य मार्केट परिसर में नजर आए।
कोरोना महामारी की चेन तोडऩे के लिए महानगरपालिका प्रशासन के अनुरोध पर सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारियों ने शनिवार और रविवार दो दिवसीय स्वैच्छिक लॉकडाउन का निर्णय किया था। दो दिवसीय सेल्फ लॉकडाउन के बाद सोमवार सुबह सूरत कपड़ा मंडी के रिंगरोड कपड़ा बाजार समेत अन्य सभी क्षेत्र के टैक्सटाइल मार्केट आम दिनों के समान ही खुले और वहां पर रोजाना की तरह महानगरपालिका टीम के सदस्यों ने व्यापारियों, कर्मचारियों समेत अन्य लोगों की आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट, रेपिड एंटीजन टेस्ट रिपोर्ट व वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के आधार पर ही प्रवेश दिया। मनपा प्रशासन की ओर से गत दिनों से जारी जांच प्रक्रिया की वजह से बड़ी संख्या में कपड़ा व्यापारी, स्टाफ, कर्मचारी, श्रमिक पहले से ही रिंगरोड कपड़ा बाजार में आना बंद कर चुके हैं और उस पर लगातार खतरनाक होती जा रही कोरोना लहर से सुरक्षित रहने के लिए अन्य कई लोगों ने अनावश्यक कार्य बाहर निकलना बंद कर दिया है। ऐसी स्थिति में सदैव व्यापारिक चहल-पहल से भरा-पूरा दिखने वाले रिंगरोड कपड़ा बाजार में सोमवार को खास भीड़-भड़क्का दिखाई नहीं दिया। वहीं, अधिकांश व्यापारियों ने भी शाम को जल्दी ही दुकानें बंद कर घर की राह पकड़ ली थी।

-लॉकडाउन लगाओ...मुख्यमंत्री के नाम लिखा पत्र

सूरत कपड़ा मंडी के एक व्यापारिक संगठन ने शहर की मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को पत्र लिखकर सूरत शहर में एक सप्ताह के लिए सम्पूर्ण लॉकडाउन की मांग की है। पत्र में बताया कि अकेले कपड़ा उद्योग में सेल्फ लॉकडाउन से कोरोना पर जीत हासिल नहीं की जा सकती, इसके लिए सम्पूर्ण शहर में लॉकडाउन की जरूरत है।

-पार्सलों के अम्बार, डिलीवरी की ना

दो दिवसीय सेल्फ लॉकडाउन के बाद सोमवार को खुले रिंगरोड कपड़ा बाजार के कई टैक्सटाइल मार्केट परिसर में तैयार माल के पार्सलों का ढेर दिखाई दिया। हालांकि इन दिनों व्यापारिक गतिविधि 80 फीसदी से ज्यादा ठप हो गई है और कपड़ा व्यापारियों ने प्रोसेस हाउस से फिनिश-डाइड माल की डिलीवरी लाने पर टेम्पोचालकों व मालिकों को भी ना बोलना शुरू कर दिया है।

-शाम को दुकानें जल्दी हो गई बंद

सूरत कपड़ा मंडी के बड़े हिस्से रिंगरोड कपड़ा बाजार में सोमवार शाम कपड़ा व्यापारियों ने दुकानें जल्दी बंद कर घर की राह पकड़ ली। इसके पीछे मुख्यमंत्री की आवश्यक बैठक और लॉकडाउन लगने की आशंका को भी सोशल मीडिया पर कारण बताया जा रहा है। वहीं, व्यापार के अभाव में और देर शाम ट्रैफिक में फंसने और कफ्र्यू लगने तक घर पहुंचने से बचने के लिए भी लोग जल्द घर चले गए।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned