scriptSURAT KAPDA MANDI: Surat Textile Mandi becoming the hub of denim fabri | SURAT KAPDA MANDI: डेनिम कपड़े का हब बनती सूरत कपड़ा मंडी | Patrika News

SURAT KAPDA MANDI: डेनिम कपड़े का हब बनती सूरत कपड़ा मंडी

-कपड़ा कारोबार का अनूकूल माहौल होने से देश का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक बना सूरत
-प्रत्येक माह सवा से डेढ़ करोड़ मीटर डेनिम कपड़े का सूरत कपड़ा मंडी में होता है उत्पादन

सूरत

Published: April 20, 2022 05:05:22 pm

सूरत. करीब पौने दो सौ साल पहले अमेरिका का मुख्य पहनावा रहा डेनिम वस्त्र अब वस्त्रनगरी सूरत की कपड़ा मंडी की पहचान में शामिल होता जा रहा है। सूरत की सिंथेटिक साडिय़ों ने पहले ही देश-विदेश में धूम मचा रखी है, अब यह धीरे-धीरे डेनिम वस्त्र उत्पादन का भी हब बनते जा रहा है। सूरत में गत 10 साल के कपड़ा कारोबार में डेनिम का व्यापार तेजी से ऊपर आया है। सरकारी नीति-नियम, व्यापारिक माहौल, कच्चे माल की उपलब्धता ने सूरत कपड़ा मंडी में डेनिम वस्त्र उत्पादन को भी अच्छा अवसर दिया है। चंद वर्षों पहले सूरत में कुछ कपड़ा व्यापारियों ने डेनिम वस्त्र उत्पादन की शुरुआत की थी और मौजूदा समय में एक दर्जन करीब बड़ी फैक्ट्रिया सूरत व आसपास में स्थापित हो चुकी है। देशभर में सूरत डेनिम वस्त्र की तीसरी बड़ी उत्पादक मंडी बन गई है और इसमें पहले नम्बर पर अहमदाबाद और दूसरे नम्बर पर भीलवाड़ा कपड़ा मंडी है।
1850 करीब उत्तरी अमेरिका के पश्चिम में कारखानों के श्रमिकों, खनिकों, किसानों और पशुपालकों आदि द्वारा पहना जाने वाला मज़बूत वस्त्र था। इधर, सूरत कपड़ा मंडी में डेनिम वस्त्र उत्पादन की कहानी भी लिनेन कपड़े के समान ही 12-13 साल ही पुरानी है। वीविंग यूनिट संचालक एक फर्म ने सर्वप्रथम डेनिम वस्त्र उत्पादन की शुरुआत की और इसे नई ऊंचाई भीलवाड़ा से सूरत कपड़ा मंडी में पहुंची डेनिम उत्पादक फर्म से मिली और देखते ही देखते थोड़े ही समय में सूरत व आसपास में एक दर्जन करीब बड़ी डेनिम वस्त्र उत्पादक फैक्ट्रियां स्थापित हो गई। यह ज्यादातर फैक्ट्रिया दो या तीन लाइन की है और एक लाइन में प्रत्येक माह 6-7 लाख मीटर डेनिम कपड़ा तैयार बनता है। सूरत कपड़ा मंडी में करीब 20 उत्पादक लाइन है, जो कि महीने में करीब सवा से डेढ़ करोड़ मीटर डेनिम कपड़े का उत्पादन कर रही हैं। व्यापारियों की मानें तो डेनिम कपड़ों के उत्पादन का बड़ा हिस्सा विदेशों में निर्यात हो जाता है। इसकी बड़ी वजह है कि कोरोना काल के बाद सरकार ने निर्यात नीतियों को सरल बनाया जिससे विदेशों में भी सूरत और अन्य उत्पादक शहरों का बनाया डेनिम कपड़ा निर्यात होने लगा है। इसके कारण डेनिम कपड़ा विदेशी पंूजी के भंडार को बढ़ाने में भी अपना योगदान देने लगा है।
SURAT KAPDA MANDI: डेनिम कपड़े का हब बनती सूरत कपड़ा मंडी
SURAT KAPDA MANDI: डेनिम कपड़े का हब बनती सूरत कपड़ा मंडी
-अहमदाबाद अव्वल उत्पादक मंडी

डेनिम वस्त्र उत्पादन में अहमदाबाद कपड़ा मंडी अव्वल है और तीसरे स्थान पर बनी सूरत कपड़ा मंडी को भी इसके साथ जोड़ लिया जाए तो देशभर में कुल उत्पादन का 70-75 फीसदी डेनिम वस्त्र दोनों मंडियों में तैयार होता है। कोरोना के बाद निर्यात को तेजी से बढ़ावा मिलने से और अहमदाबाद में प्रदुषण मामले से प्रतिकूल स्थिति होने से सूरत कपड़ा मंडी में डेनिम वस्त्र उत्पादन को अधिक अवसर मिलता जा रहा है। देशभर में डेनिम कारोबार सालाना 35 हजार करोड़ रुपए का आंका जाता है।
-दिल्ली व कोलकाता मंडी में अधिक खपत

कपास की खेती में गुजरात अव्वल है और डेनिम वस्त्र का कच्चा माल अहमदाबाद, सूरत मंडी में आसानी से उपलब्ध हो जाता है। सूरत में स्पीनिंग मिल होने से यार्न भी तैयार होता है, लेकिन ज्यादातर आपूर्ति अहमदाबाद से होती है। सूरत के डेनिम कपड़ों की सर्वाधिक मांग दिल्ली और कोलकाता मंडी में होती है। इसके बाद बेंगलुरू व मुंबई मंडी में सूरत उत्पादित डेनिम कपड़ा जाता है। रेडीमेड वस्त्र की जरूरी स्टीचिंग यूनिटें शुरू होने से रेडिमेड जिंस पेंट और अन्य कपड़े बनने लगे हैं साथ ही भविष्य में इसकी बड़ी संभावना है।
-यूं होता है डेनिम वस्त्र निर्माण

कपास के रेशों को काटकर सूत बनाने के बाद धागों को रंगा जाता है और शटल लूम व प्रोजेक्टाइल लूम पर धागों को बुनकर डेनिम वस्त्र का रूप दिया जाता है। सूरत कपड़ा मंडी में छह तरह के डेनिम तैयार होते हैं और इसमें इंडिगो डेनिम, खिंचाव डेनिम, कुचल डेनिम, एसिडवॉश डेनिम, कच्चा डेनिम व सेनफॉराइज्ड डेनिम शामिल है। डेनिम वस्त्र की इन सभी छह वैरायटियों की अलग-अलग खासियत है और बाजार में यह सभी वैरायटियां अपनी-अपनी गुणवत्ता आधारित मांग के अनुरूप खपत का कारण बनती है।
-सूरत में दिखता है बेहतर भविष्य

डेनिम वस्त्र उत्पादन सूरत कपड़ा मंडी में बहुत पुराना नहीं है, लेकिन मौजूदा सभी तरह की व्यापारिक स्थिति में सूरत में इसका बेहतर भविष्य साफ दिखाई देता है। अहमदाबाद में प्रदुषण की बड़ी दिक्कत है, ऐसे में सूरत कपड़ा मंडी उत्पादकों के लिए अनुकूल कहा जा सकता है।
सुनील गोयल, डेनिम वस्त्र कारोबारी।

-गारमेंट पार्क से मिलेगा बूस्ट
डेनिम कारोबार में सूरत तेजी से आगे बढ़ रहा है और टेेक्सटाइल इंडस्ट्रीज कटपीस के बजाय गारमेंट की तरफ बढ़ रही है। सूरत में गारमेंट पार्क जैसी सुविधा होने पर कारोबार को अच्छा बूस्ट मिल सकता है। सूरत कपड़ा मंडी का व्यापारी नए सेक्टर की तरफ भी ध्यान आकृष्ट कर रहा है।
नवलेश गोयल, कपड़ा व्यापारी, न्यू बॉम्बे मार्केट।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Sharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'Mumbai News Live Updates: शिवसेना के बागी विधायकों के साथ गोवा से मुंबई पहुंचे सीएम एकनाथ शिंदे, कहा- फ्लोर टेस्ट सिर्फ एक औपचारिकता हैIND vs ENG, 5th Test Match Day 2 Live Updates: बारिश की वजह से खेल दोबारा रुका, इंग्लैंड 3 विकेट के नुकसान पर 60 रनों परआईएमडी ने जताई अगले 48 घंटों के लिए चेन्नई में बारिश की संभावनासमुद्र के फैलाव से भूकम्प के झटके....पिछले 25 वर्ष में 10 फीसदी बढ़े... द. कन्नड़ जिले में पिछले 200 साल में 150 से अधिक भूकम्प आएMaharashtra Politics: फडणवीस को डिप्टी सीएम बनने वाला पहला CM कहने पर शरद पवार की पूर्व सांसद ने ली चुटकी, कहा- अजित पवार तो कभी...Udaipur Killing: आरोपियों के मोबाइल व सोशल मीडिया का डाटा एटीएस के लिए महत्वपूर्ण, कई संदिग्धों पर यूपी एटीएस का पहरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.