scriptSURAT KAPDA MANDI: Third wave of Corona, effect on Lagnasara season | SURAT KAPDA MANDI: कोरोना की तीसरी लहर, लग्नसरा सीजन पर असर | Patrika News

SURAT KAPDA MANDI: कोरोना की तीसरी लहर, लग्नसरा सीजन पर असर

-चार माह की अवधि के लग्नसरा सीजन की तैयारियां हजारों कपड़ा व्यापारियों ने आधी राह नापकर रोकी


-कोरोना से कम पाबंदियों ने अधिक बढ़ाई है स्थानीय व्यापारियों की चिंता, निचली मंडियों से व्यापारियों का आना रुका


-फिलहाल प्रोडक्शन व डिस्पेचिंग पर लग गई है 50 फीसदी तक रोक, अब फरवरी बीतने का है सभी को इंतजार

सूरत

Updated: January 10, 2022 07:11:29 pm

सूरत. लगातार तीसरे साल सूरत कपड़ा मंडी के सबसे बड़े लग्नसरा सीजन पर कोरोना की तीसरी लहर का काला साया मंडरा रहा है। असर इस कदर है कि लग्नसरा सीजन के कपड़ा कारोबार की दिसम्बर तक की गई तैयारियां आधे रास्ते पहुंचकर 50 प्रतिशत से ज्यादा रोक दी गई है और यह रोक सूरत कपड़ा मंडी के हर छोटे-बड़े व्यापारी ने लगाई है। उधर, लग्नसरा सीजन की खरीदारी के लिए बाहरी मंडियों से भी कपड़ा व्यापारियों का सूरत आना एकदम बंद हो गया है।
कोरोना के साथ-साथ व्यापारिक कौशल के साथ चलने में एशिया की सबसे बड़ी सूरत कपड़ा मंडी के हजारों कपड़ा व्यापारी भले ही तैयार हो गए हैं, लेकिन व्यापारिक सीजन में थोड़ी अपेक्षा बढ़ ही जाती है और उसी के अनुरूप स्थिति सूरत कपड़ा मंडी में भी इस बार बनी है। बीते वर्ष 2021 में लग्नसरा सीजन बिगडऩे के बाद दीपावली सीजन उम्मीद से अधिक अच्छा रहा और इसी आस में नए वर्ष 2022 के सबसे बड़े लग्नसरा सीजन की तैयारियां अधिकांश कपड़ा व्यापारियों ने दीपावली के बाद से ही प्रारम्भ कर दी थी। जिन व्यापारियों ने पहले तैयारियां प्रारम्भ कर दी थी डेढ़-दो माह बाद याने दिसम्बर के अंतिम सप्ताह तक उनके गोदाम में नया माल स्टॉक भी होने लगा था और ऑर्डर मुताबिक डिस्पेचिंग भी शुरू कर दी गई थी। मगर नए वर्ष की जनवरी के प्रारम्भ होते ही कोरोना की तीसरी लहर का असर सूरत कपड़ा मंडी समेत देशभर की कपड़ा मंडियों में दिखने लगा और जो व्यापारी खरीदारी के लिए सूरत आने की तैयारियां कर रहे थे, वे एकदम टिकटें केंसल करवाने लगे। जनवरी का पहला सप्ताह बीतते-बीतते टिकट केंसल करवाने वाले व्यापारियों की संख्या 80 प्रतिशत तक हो गई। इधर, सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारियों ने भी तत्काल प्रभाव से प्रोडक्शन व स्टॉक हो गए माल पर रोक लगा दी और यह रोक 50 फीसदी तक प्रभावी हो गई बताई है।
SURAT KAPDA MANDI: कोरोना की तीसरी लहर, लग्नसरा सीजन पर असर
SURAT KAPDA MANDI: कोरोना की तीसरी लहर, लग्नसरा सीजन पर असर
-यूं होती है लग्नसरा सीजन की तैयारियां

दीपावली के बाद से ही सूरत कपड़ा मंडी के छोटे-बड़े सभी कपड़ा व्यापारी लग्नसरा सीजन की तैयारियां प्रारम्भ कर देते हैं, इनमें लम्बे समय की तैयारियां फैंसी आयटम के व्यापारियों को करनी होती है। तैयारियों में एक से पांच लाख मीटर कपड़ा मिलों में डाइंग-प्रिंटिंग के लिए देने के बाद उन पर डिजीटल, प्रिंट, हैंडवर्क, स्टीचिंग और बाद में डिस्पेचिंग आदि के कार्य होते हैं और इन पर आसानी से सवा-डेढ़ माह की अवधि लग जाती है।
-पाबंदियों से ज्यादा है चिंता

कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में लोग भले ही तीव्र गति से आ रहे हैं, लेकिन इसके नुकसानदायक परिणाम काफी कम होने से व्यापारियों में कुछ समय बाद कपड़ा व्यापार चलने की उम्मीद है। वहीं, दूसरी तरफ बिहार, राजस्थान, महाराष्ट्र, दिल्ली आदि राज्यों में वहां की सरकारों ने जिस तरह से पाबंदियां बढ़ाई है, उससे अवश्य सूरत कपड़ा मंडी के हजारों कपड़ा व्यापारियों को चिंता है। पाबंदियों के बीच व्यापार होने में कई दिक्कते उन्हें महसूस हो रही हैं।
-लगातार तीसरे साल सीजन प्रभावित

कोरोना महामारी का आगमन 2020 के मार्च में हुआ था और तब कपड़ा व्यापारी इससे अनभिज्ञ होकर लग्नसरा सीजन की जमकर तैयारियां कर लिए थे और बाद में उन्हें तैयार माल बेचने में कई दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा था। इसके बाद 2021 में व्यापारी पूरी तरह सतर्क थे और उन्होंने उतनी ही तैयारियां की जितनी कि जरूरत लगी। इसके बाद 2022 में भी व्यापारिक हाल पिछले दो सालों जैसा ही रहता नजर आ रहा है।
-फरवरी उत्तरार्ध के बाद से उम्मीद

अभी निश्चित ही सीजन के वक्त में कोरोना से कपड़ा कारोबार पर ब्रेक लग गया है, लेकिन फरवरी के उत्तरार्ध तक सभी को उम्मीद है कि तीसरी लहर का असर कम हो जाएगा और व्यापार ठीकठाक चलेगा।
-किशन गाडोदिया, कपड़ा व्यापारी, मिलेनियम-2 मार्केट

-शादी व शुभ प्रसंगों की है भरमार

नए वर्ष में इस बार शुभ प्रसंग व शादियों की भरमार है और जनवरी से जुलाई तक खूब सावे है। कोरोना की वजह से सरकारें जिस तरह से राज्यों में पाबंदिया लगा रही है, उससे कपड़ा कारोबार को लेकर फिक्र अवश्य है।
-बीरेंद्र अग्रवाल, कपड़ा व्यापारी, मिलेनियम-2 मार्केट

-प्रोडक्शन-डिस्पेचिंग 50 फीसदी रोकी

जनवरी के साथ ही तेज गति से बढ़ रहे कोरोना को देख अधिकांश व्यापारियों ने ड्रेस व साड़ी के नए प्रोडक्शन के साथ-साथ गोदाम में स्टॉक माल की डिस्पेचिंग पर 50 फीसदी से ज्यादा रोक लगा दी है। अब यह वक्त बीतने का इंतजार है।
-नवलेश गोयल, कपड़ा व्यापारी, न्यू बोम्बे मार्केट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Corona Vaccine: वैक्सीन के लिए नई गाइडलाइंस, कोरोना से ठीक होने के कितने महीने बाद लगेगा टीकाGood News: प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस बने माता-पिता, एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर कर फैंस को बताया- बेबी आया है...यूपी की हॉट विधानसभा सीट : गुरुओं की विरासत संभालने उतरे योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादवक्या चुनावी रैलियों पर खत्म होंगी पाबंदियां, चुनाव आयोग की अहम बैठक आजदेश विरोधी कंटेंट के खिलाफ सरकार की बड़ी कार्रवाई, 35 यूट्यूब चैनल किए ब्लॉकसरकारी स्कूल में कोरोना विस्फोट, पांच छात्र समेत टीचर की रिपोर्ट पॉजिटिव, SDM ने एक सप्ताह के लिए स्कूल किया बंदमंत्री ने किया दावा कहा- राज्य की खनन नीति देश में बनेगी मिसालभिलाई में ईंट से सिर कुचलकर युवक की हत्या, रातभर ठंड में अकड़ा शव, पास में मिली शराब की बोतल और पर्ची
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.