scriptSURAT KAPDA MANDI: 'Tricolour' did not wave in the middle season | SURAT KAPDA MANDI: मिडिल सीजन में लहरिया नहीं 'तिरंगे' की चली | Patrika News

SURAT KAPDA MANDI: मिडिल सीजन में लहरिया नहीं 'तिरंगे' की चली

- राखी-तीज के सीजन को सूरत कपड़ा मंडी में कहा जाता है मिडिल सीजन और इस सीजन में खूब बिकता है लहरिया
- इस बार राखी की ग्राहकी कपड़ा बाजार में रही पूरी तरह से सुस्त, हर घर तिरंगा के तीन दिवसीय अभियान में तिरंगा फहराने से मिली ऑक्सीजन

सूरत

Published: August 03, 2022 11:35:44 am

सूरत. एशिया की सबसे बड़ी सूरत कपड़ा मंडी का मिडिल सीजन याने राखी-तीज की ग्राहकी इस बार पूरी तरह से फ्लॉप रही है। ग्राहकी के अभाव में जून के मध्यान्ह से उदास बैठे कपड़ा व्यापारियों को आखिर राष्ट्रीयता के रंग में रंगने का अवसर मिल गया। अभी सूरत के कई कपड़ा व्यापारी तिरंगा ध्वज बना रहे हैं और मिडिल सीजन के लहरिया की कमी के पूरा होने का अनुभव ले रहे हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ समय पहले ही आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष में देशभर में 13, 14 व 15 अगस्त को हर घर तिरंगा अभियान के तहत घर-घर तिरंगा फहराने की घोषणा की है। इस घोषणा के मुताबिक देशभर में लोग अपने घरों में, निजी संस्थान व अन्य स्थानों पर तिरंगा ध्वज लहराएंगे। प्रधानमंत्री मोदी की इस घोषणा के बाद कुछ गिने-चुने व्यापारियों ने ही शुरुआत में गंभीरता से लिया और अपने व्यापार को इस दिशा में आगे बढ़ाया था मगर समय बीतने के साथ तिरंगा ध्वज की चौतरफा डिमांड ने अधिकांश व्यापारियों को मिडिल सीजन के उदासीन लहरिया ग्राहकी से बाहर निकलने का मौका दिया। सूरत कपड़ा मंडी में अब स्थिति यह है कि अधिकांश टैक्सटाइल मार्केट में ज्यादातर व्यापारियों के पास तिरंगा ध्वज बनाने और निचली मंडियों तक पहुंचाने का काम ही अब इन दिनों हो रहा है। निचली मंडियों से तिरंगे ध्वज की डिमांड आने से एक बार लहरिया ऑफ सीजन को व्यापारिक ऑक्सीजन मिल गया है।
SURAT KAPDA MANDI: मिडिल सीजन में लहरिया नहीं 'तिरंगे' की चली
SURAT KAPDA MANDI: मिडिल सीजन में लहरिया नहीं 'तिरंगे' की चली
- किस तरह से बन रहे हैं यहां तिरंगे ध्वज

सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारी इन दिनों देश भर से आई तिरंगा ध्वज की डिमांड को ध्यान में रख दो साइज में इसे बना रहे हैं। पहली साइज 12 बाई 18 और दूसरी साइज 20 बाई 30 है। कपड़ा व्यापारी पहले इसे अल्ट्रासाटन व माइक्रो फैब्रिक्स पर बना रहे थे, डिमांड में आई तेजी को ध्यान में रख अब साड़ी के फैब्रिक पर भी इसे खूब बनाया जा रहा है। इसमें 60 ग्राम, 72 बाय 72, वेटलेस, रेनियल, लाइक्रा आदि शामिल है। सामान्य तौर पर इसकी कीमत 9 रुपए से लेकर 20 रुपए तक बताई जा रही है।
- 400 से 500 करोड़ तक का कारोबार होने का अनुमान

सूरत कपड़ा मंडी में जिस तरह से निचली मंडियों से हर घर तिरंगा अभियान के तहत तिरंगा ध्वज का आर्डर मिल रहा है उसके मुताबिक कहा जा रहा है कि यह तीन दिवसीय अभियान ही सूरत कपड़ा मंडी को 400 से 500 करोड़ रुपए तक का कारोबार दे जाएगा। तिरंगा ध्वज बनाने का ज्यादातर काम सूरत कपड़ा मंडी के मध्यम दर्जे के व्यापारी कर रहे हैं। जानकार कपड़ा व्यापारियों की मानें तो अभी तक 18 से 20 करोड तिरंगे ध्वज का आर्डर सूरत कपड़ा मंडी को मिल चुका है।
- अच्छे कारोबार की बंधी उम्मीद

दो दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में देश की जनता से हर घर तिरंगा अभियान से जुडऩे का आह्वान किया है। इससे पहले सूरत कपड़ा मंडी में जिस तरह से देश भर की मंडियों से तिरंगे ध्वज के आर्डर मिल रहे हैं उसे देख अच्छे कारोबार की उम्मीद जताई जा सकती है।
हंसराज जैन, कपड़ा उद्यमी, रीजेंट टैक्सटाइल मार्केट

-राष्ट्र ध्वज के प्रति झलकता है सम्मान


सूरत कप?ा मंडी में ज्यादातर स्थलों पर राष्ट्रीय ध्वज के प्रति व्यापारी-कर्मचारी वर्ग में सम्मान भी देखने को मिल रहा है। जहां भी मिल, फेक्ट्री में तिरंगा बनाया जा रहा है वहां कर्मचारी पूरे सम्मान के साथ उसे बना रहे है। कई यूनिट में कारीगर बगैर चप्पल-जूते मशीन पर सम्मान के साथ तिरंगा ध्वज बनाने का कार्य कर रहे है। 15-20 करो? तिरंगा ध्वज बनाने की क्षमता सूरत कप?ा मंडी के व्यापारियों के ही बुते है।
-80 फीसद डिस्पेचिंग हो गई पूरी

ब?े पैमाने पर डिमांड में जरूर कमी आई है, लेकिन अब छोटे-छोटे स्तर पर तिरंगे ध्वज की भरपूर डिमांड है। स्थिति यह है कि अभी 80 प्रतिशत डिस्पेचिंग पूरी हो गई है जबकि स्थानीय व्यापारियों को मात्र 30-35 दिन का ही समय मिला।
-संजय सरावगी, कपडा उधमी, अभिषेक मार्केट

- इस 15 अगस्त खास साड़ी भी की गई तैयार

आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष में देशभर में 3 दिन तक हर घर तिरंगा अभियान को ध्यान रख कपड़ा मंडी के व्यापारियों ने एक खास साड़ी का भी निर्माण किया है। मिडिल सीजन याने राखी का सीजन फेल होने पर यह खास साड़ी देश के कुछ राज्यों के टेस्ट के मुताबिक तैयार की गई है। सफेद रंग की साड़ी पर केसरिया बॉर्डर और बॉर्डर पर हरे रंग की एंब्रॉयडरी इसे तीन रंग में रंगने की भरपूर कोशिश कपड़ा व्यापारियों की ओर से की गई है। इसके अलावा सफेद साड़ी के बीच में जगह-जगह तिरंगे का मार्क, अशोक चक्र को खास डिजाइन किया गया है।
SURAT KAPDA MANDI: मिडिल सीजन में लहरिया नहीं 'तिरंगे' की चली

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

रोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियागुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानलालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाMaharashtra Monsoon Session: व्हिप को लेकर आमने-सामने हुए शिंदे गुट और ठाकरे खेमा, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष का जमकर हंगामाBJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलजिम्बाब्वे दौरे पर गई भारतीय टीम को BCCI ने दी सख्त हिदायत, पूल में जाने से रोका, ज्यादा देर नहाने से भी किया मानाकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.