SURAT : सज गया रंग-बिरंगी पतंगों और मांझे का बाजार

इस बार सूरती मांझा खास पैकिंग में, ताकि ग्राहकों को नकली मांझा नहीं थमाया जाए

पिछले साल के मुकाबले दाम 10 प्रतिशत बढ़े

By: Divyesh Kumar Sondarva

Published: 03 Jan 2019, 08:05 PM IST

सूरत.

मकर संक्रांति से पहले शहर में पतंगों और मांझे का बाजार सज गया है। सूरती मांझा देश के विभिन्न हिस्सों के अलावा दुबई और अमरीका तक भेजा गया है। पिछले साल के मुकाबले इस साल पतंग और मांझे के दाम में 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। मांझे की नई बॉक्स पैकिंग और स्टेच्यू ऑफ यूनिट की तस्वीरों वाली पतंग आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं।
मकर संक्रांति 12 दिन दूर है। शहर के भागल और डबगरवाड़ के व्यापारियों ने पतंग और मांझे के स्टॉल सजा लिए हैं। भागल और डबगरवाड़ पतंग और मांझे के मुख्य बाजार हंै। ग्राहकों को लुभाने के लिए हर साल व्यापारी कुछ नया लेकर आते हैं। इस बार मांझे के व्यापारियों ने आकर्षक बॉक्स पैकिंग की शुरुआत की है। कई बार सूरती मांझे के नाम पर ग्राहकों को डुप्लिकेट मांझा थमा दिया जाता है। इससे मांझे बनाने वालों की साख पर असर पड़ता है। इस समस्या के समाधान के लिए व्यापारी बॉक्स पैकिंग में फिरकी लेकर आए हैं। घिसाई किया हुआ मांझा फिरकी में पैक कर दिया जा रहा है। 1000 से 5000 वार वाली फिरकी के आकर्षक बॉक्स तैयार किए गए हंै, जो 380 से 1150 रुपए में बेचे जा रहे हैं। इसके अलावा बरेली और पंजाब से भी मांझा आया है। इस पर अलग से प्रिंट किया गया है, जिससे ग्राहकों को असली और नकली मांझे की परख में आसानी हो।
पिछले साल के मुकाबले इस साल मांझे के दाम में 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। 1000 वार का मांझा पिछले साल 70 से 80 रुपए में मिल रहा था, जो इस साल 90 से 100 रुपए का है। 2500 वार का मांझा 140 से 150 रुपए की जगह 160 से 180 रुपए का हो गया है। 5000 वार का मांझा 250 की जगह 260 से 280 रुपए में बेचा जा रहा है। बड़े ब्रांड वाले मांझे के दाम भी बढ़ गए हैं। पतंग के दाम भी बढ़े हैं। सूरती पतंगों के अलावा बाजार में अहमदाबाद और खंभात की पतंगें भी सजी हुई हैं। कागज और लकड़ी के दाम बढऩे के कारण पतंग के दाम में 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। कई पतंग निर्माताओं ने पतंगों पर स्टेच्यू ऑफ यूनिटी प्रिंट करवाई है। इसमें सरदार पटेल की प्रतिमा के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फोटो है। पतंग के बंच 50 से 500 रुपए तक में उपलब्ध हैं। सामान्य तौर पर सूरत और अहमदाबादी बंच (पंजे) में पांच पतंग होती हैं। खंभात से आने वाले बंच में चार पतंग होती हैं।


दुबई और अमरीका तक जाता है सूरती मांझा
विदेशों में भी सूरती मांझे की मांग है। व्यापारी खास पैकिंग कर सूरती मांझा दुबई और अमरीका भेज रहे हैं। यह सिलसिला दिसम्बर के अंत में ही शुरू हो गया था।

नकली से बचाने की पहल
&ग्राहकों को मकर संक्राति पर नकली मांझा थमा दिया जाता है, इससे ब्रांड की साख पर सवाल उठते हैं। ग्राहकों को नकली मांझे से बचाने के लिए इस बार बॉक्स में फिरकी की पैकिंग की गई है। यह पैकिंग विदेश भी भेजी गई है।
प्रकाश मांझावाला, मांझा विक्रेता, भागल

Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned