surat news- एक लाख गरीब श्रमिक प्रधानमंत्री को लिखेंगे पत्र

surat news- एक लाख गरीब श्रमिक प्रधानमंत्री को लिखेंगे पत्र
surat news- एक लाख गरीब श्रमिक प्रधानमंत्री को लिखेंगे पत्र

Pradeep Devmani Mishra | Updated: 10 Oct 2019, 07:58:01 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

आरसेप के खिलाफ कपड़ा श्रमिक प्रधानमंत्री को लिखेंगे पत्र

सूरत
केन्द्र सरकार आगामी दिनों में 14 देशों के साथ रीजनल कोम्प्रहेन्सिव इकोनॉमिक पार्टनरशिप पॉलिसी की तैयारी कर रही है। इसके विरोध में देश में कई औद्योगिक संगठन अपना विरोध दर्ज करवा रहे हैं। कपड़ा उद्योग में काम करने वाले श्रमिकों ने बडीं संख्या में प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर संकट व्यक्त किया है।
केन्द्र सरकार एशिया के 14 देशों के साथ आरसेप समझोता करने के लिए सोच रही है। इस पर अगले महीने फैसला होना है, लेकिन इस समझौते को लेकर कपड़ा उद्यमियों की नींद ***** हो गई है। उनका कहना है कि यदि यह समझौता हो जाता है तो बांग्लादेश, चीन और बांग्लादेश जैसे देश से आने वाले कपड़ों के कारण यहां का कपड़ा उद्योग खतरे में पड़ जाएगा। नोटबंदी और जीएसटी के बाद कपड़ा उद्योग पहले से ही डामाडोल हो गए हैं। इसके बाद विदेशी कपड़े यदि कम कीमत पर मिलेंगे तो यहां के कपड़ा उत्पादकों को कारखाने बंद करने पड़ सकते हैं। इस बारे में पिछले दिनों फैडरेशन ऑफ गुजरात वीवर्स एसोसिएशन ने वित्तमंत्रालय और कपड़ा मंत्रालय को पत्र लिखकर लाखों श्रमिकों को बेरोजगार होने का भय भी बताया था।

अगले एक हफ्ते में FATF पाकिस्तान को कर सकता है ब्लैकलिस्ट, आतंक पर नहीं लगा पाया है लगाम

अब देशभर में से कपड़ा उद्योग से जुड़े संगठन इसके विरोध में लामबंद हो रहे हैं। सूरत सहित देशभर से कपड़ा उद्योग में जुड़े श्रमिक प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इस नीति के कारण संभवित बेरोजगारी का संकट बताते हुए कपड़़ा उद्योग को इससे दूर करने की मांग कर रहे हैं।

surat news- एक लाख गरीब श्रमिक प्रधानमंत्री को लिखेंगे पत्र

आगामी सप्ताह में इस आरसेप के बारे में चर्चा विचारणा करने के लिए सूरत, मुंबई और देशभर के कपड़ा उद्यमी चैम्बर ऑफ कॉमर्स में मीटिंग होगी।

IND vs SA : मयंक अग्रवाल ने दूसरे टेस्ट में भी लगाया शतक, भारत मजबूत स्थिति में
सचिन जीआईडीसी के कपड़ा उद्यमी मयूर गोलवाला ने बताया कि सचिन जीआआइडीसी के लगभग पचास हजार श्रमिक प्रधानमंत्री को पत्र लिखेंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned