SURAT NEWS: पूर्णाहुति आज, मनाएंगे रामनवमी

पर्व के दौरान कोविड-19 की गाइडलाइन का हुआ पालन

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 20 Apr 2021, 09:20 PM IST

सूरत. चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से प्रारम्भ हुआ आद्यशक्ति मां जगदम्बा की आराधना का नौ दिवसीय नवरात्र पर्व चैत्र शुक्ल नवमी तिथि बुधवार को पूर्ण हो जाएगा। इस अवसर पर भए प्रकट कृपाला दीनदयाला, कौशल्या हितकारी...की गूंज के साथ घर-घर में रामनवमी मनाई जाएगी। चैत्र नवरात्र की पूर्णाहुति के अवसर पर बुधवार को कन्या पूजन, श्रीफल होम समेत अन्य आयोजन भी कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुरूप होंगे।
इस बार भी गत वर्ष के समान चैत्र नवरात्र पर्व पर कोरोना का साया रहा और किसी तरह के धार्मिक-सामाजिक कार्यक्रमों का सार्वजनिक तौर पर आयोजन नहीं किया जा सका। सूर्यनगरी की अधिष्ठात्री मां जगदम्बा के दर्शन करने के लिए श्रद्धालु इस बार भी चैत्र नवरात्र पर्व के दौरान पार्ले पोइंट स्थित अम्बाजी मंदिर नहीं पहुंच सके। हालांकि मंदिर ट्रस्ट की ओर से कोरोना महामारी के बीच ऑनलाइन दर्शन-आरती आदि की व्यवस्था की गई थी। वहीं, शहर के अन्य देवी मंदिरों में भी चैत्र नवरात्र पर्व के दौरान श्रद्धालुओं की उपस्थिति नाममात्र ही रही। कोरोना महामारी के खात्मे के लिए अंबाजी मंदिर, जुना अम्बाजी मंदिर, उमियाधाम, भक्तिधाम मंदिर समेत अन्य देवी मंदिरों में चैत्र नवरात्र पर्व के दौरान मां भगवती की आराधना विशेष रूप से की गई। मंगलवार को चैत्र शुक्ल अष्टमी के अवसर पर दुर्गाष्टमी मनाई गई और मां जगदम्बा के आठवें स्वरूप महागौरी की पूजा-आराधना की गई। इस मौके पर अंबिकानिकेतन में मां अम्बा के समक्ष छप्पनभोग की झांकी सजाई गई वहीं, श्रद्धालुओं ने अपने-अपने घरों में प्रतीक रूप से कन्या पूजन के आयोजन किए।

-पंचकुंडीय महायज्ञ में श्रीफल होम

चैत्र नवरात्र पर्व के उपलक्ष में उधना में खरवरनगर के निकट दक्षिणाभिमुखी शनि-हनुमान मंदिर आश्रम व हरिद्वार स्थित स्वामी स्वरूपानंद आश्रम में स्वामी विजयानंद महाराज के सानिध्य में आयोजित नौ दिवसीय पचंकुंडीय महायज्ञ की पूर्णाहुति बुधवार को श्रीफल होम के साथ की जाएगी।

-प्रतीकात्मक मनाएंगे रामनवमी

चैत्र शुक्ल नवमी बुधवार को रामनवमी का पर्व भटार रोड स्थित श्रीराम मंदिर समेत अन्य मंदिरों में प्रतीकात्मक रूप में मनाया जाएगा। इस दौरान भगवान की पूजा-आराधना होगी, लेकिन दर्शन के लिए पट बंद रहेंगे। वहीं, घरों में आयोजित श्रीरामचरितमानस नवाह्न पारायण पाठ की पूर्णाहुति की जाएगी।

-कन्या पूजन के आयोजन भी प्रतीकात्मक

चैत्र व आश्विन नवरात्र पर्व की अष्टमी व नवमी तिथि पर कन्या स्वरूपा मां भगवती को हलवा-पूरी का भोग परोसने की परम्परा है और मंगलवार को श्रद्धालुओं ने घरों में अपने ही परिवार की एक-तो बच्चियों को विधिविधान से भोग परोसा। बच्चियों की पूजा-सत्कार का दौर नवमी तिथि के मौके पर बुधवार को भी चलेगा।

SURAT NEWS: पूर्णाहुति आज, मनाएंगे रामनवमी
Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned