surat news....तो सूरत और बनारस के हजारो कपड़ा उद्यमी बेरोजगार हो जाएंगे

surat news....तो सूरत और बनारस के हजारो कपड़ा उद्यमी बेरोजगार हो जाएंगे

Pradeep Devmani Mishra | Publish: Jul, 20 2019 07:59:03 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

नायलोन यार्न पर एन्टि डम्पिंग ड्यूटी नहीं लगाने की मांग
सूरत और बनारस के कपड़ा उद्यमियों के लिए मुसीबत

सूरत
फैडरेशन ऑफ इन्डियन आर्ट सिल्क वीविग इन्डस्ट्री ने नायलोन पर एन्टि डम्पिंग ड्यूटी नहीं लगाने की मांग की है। फिआस्वी ने नवसारी के सांसद को दिए ज्ञापन में बताया है कि यदि एन्टि डम्पिंग ड्यूटी लगाई जाती है तो सूरत और बनारस के हजारो कपड़ा उद्यमी बेरोजगार हो जाएंगे।
फिआस्वी ने ज्ञापन में बताया है कि भारत में नायलोन यार्न का उत्पादन करने वाले कुल 12 उद्यमी है उनमें से सिर्फ दो उद्यमी ही नायलोन यार्न पर एन्टि डम्पिंग ड्यूटी लगाने की मांग कर रहे हैं। यदि एन्टि डम्पिंग ड्यूटी लगाई गई तो विदेश से आने वाले नायलोन यार्न के कपड़ो का आयात बढ़ जाएगा और स्थानीय उत्पादकों के कपड़े महंगे हो जाएंगे। भारत में सूरत, अमृतसर, लुधियाना, भिवंडी, भीलवाडा, कोलकाता, बनारस के कपड़ा उद्यमी नायलोन यार्न का उपयोग कर कपड़े बनाते हैं। इन पर भी एन्टि डम्पिंग ड्यूटी का बुरा असर पडेगा। भारत में तैयार होने वाले यार्न की गुणवत्ता भी अंतरराष्ट्रीय स्तर की नहीं है। जनवरी 2018 के पहले 11 वर्ष तक नायलोन यार्न पर एन्टि डम्पिंग ड्यूटी थी, उस दौरान भी स्थानीय नायलोन उत्पादकों ने नायलोन यार्न की गुणवत्ता नहीं सुधारी। इसलिए स्थानीय कपड़ा उद्यमियों के हित में नायलोन यार्न पर एन्टि डम्ंिपग ड्यूटी नहीं लगानी चाहिए। ज्ञापन देने के दौरान फिआस्वी के चेयरमैन भरत गांधी, फोगवा के प्रमुख अशोक जीरावाला, मयूर गोलवाला, आशिष गुजराती, ब्रिजेश गोंडलिया सहित अन्य 50 लोग उपस्थित रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned