पिछले कई ब्लाइंड केस सुलझाने में सूरत पुलिस रही है फिसड्डी

पांडेसरा के जीयाव-बुडिय़ा क्षेत्र में 11 वर्षीय अज्ञात बच्ची का शव मिलने की घटना में दस दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस बच्ची की शिनाख्त तक नहीं...

By: मुकेश शर्मा

Published: 25 Apr 2018, 10:00 PM IST

सूरत।पांडेसरा के जीयाव-बुडिय़ा क्षेत्र में 11 वर्षीय अज्ञात बच्ची का शव मिलने की घटना में दस दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस बच्ची की शिनाख्त तक नहीं कर पाई है। यह पहला मामला नहीं है जिसमें पुलिस फिसड्डी साबित हो रही हो। इससे पहले भी दो पुराने मामलों में भी पुलिस बच्चियों की शिनाख्त और उनके अपराधियों का पता नहीं लगा पाई है।

वर्ष 2011 में डिंडोली सीआर पाटील एस्टेट की एक बिल्ंिडग से 4 से 5 साल की एक बच्ची का हत्या किया हुआ शव मिला था। पोस्टमार्टम के दौरान बच्ची से दुष्कर्म कर उसकी हत्या करने का खुलासा हुआ था। स्कूल यूनिफॉर्म पहनी बच्ची से दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी गई थी। पुलिस ने दुष्कर्म और हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी। पांडेसरा दुष्कर्म कांड की तर्ज पर ही पुलिस ने बच्ची की शिनाख्त के लिए प्रयास किए थे। जगह-जगह पोस्टर लगाए और लापता बच्चों का रिकार्ड खंगाला था। इसके बावजूद बच्ची की शिनाख्त करने में पुलिस नाकामयाब रही। सात सालों के बाद भी इस बच्ची की शिनाख्त नहीं हो पाई है।

इसी तरह वर्ष 2009 में भेस्तानगांव की सीमा में एक खेत से 9 साल की बच्ची का शव मिला था। पोस्टमार्टम के दौरान बच्ची से दुष्कर्म कर उसकी हत्या करने का खुलासा हुआ था। बच्ची के दोनों हाथ बंधे हुए थे तथा मुंह में कपड़ा ठुसा हुआ था। इस मामले में पुलिस बच्ची की शिनाख्त करने में सफल तो रही, लेकिन बच्ची के हत्यारों का आज तक पता नहीं लगा पाई है। इन मामलों से स्पष्ट है कि पुलिस ब्लाइंड केस सुलझाने में फिसड्डी साबित हुई है।

सूटकेस में मिले शव का मामला भी अनसुलझा

नवागाम रेलवे फाटक के पास एक सूटकेस में एक युवती का शव मिलने की घटना भी आज तक पुलिस सुलझा नहीं पाई है। हाथ पैर काट कर शव सूटकेस में रखा गया था। इस मामले में पुलिस ने युवती की शिनाख्त के लिए कई प्रयास किए, लेकिन सफल नहीं हो पाई।

दादर-बीकानेर ट्रेन में यात्री की मौत

दादर-बीकानेर ट्रेन में राजस्थान जा रहे यात्री की मौत हो गई। उसकी पहचान मगाराम शिवजी देवासी (रबारी) के रूप में हुई है। मूलत: राजस्थान के बाड़मेर में पचपदरा निवासी मगाराम सोमवार को दादर-बीकानेर ट्रेन में सफर कर रहा था। बताया गया है कि अचानक उसकी तबीयत बिगडऩे लगी और भिलाड़ स्टेशन तक आते-आते वह अचेत होकर गिर गया।


यात्रियों से सूचना मिलने पर वापी स्टेशन पर आरपीएफ ने पहुंचकर उसे नीचे उतारा। इस दौरान एम्बुलेंस को भी बुला लिया गया था। मगाराम की जांच करने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया। इसके बाद उसके पास मिले से फोन पर उसके परिजनों को सूचना दी गई। बाद में शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned