हनी ट्रैप करने वाले फंसे पुलिस के जाल में

हनी ट्रैप करने वाले फंसे पुलिस के जाल में

Dinesh M.Trivedi | Publish: Aug, 11 2018 10:19:30 PM (IST) Surat, Gujarat, India

- तीनों आरोपी फोन पर युवती से बात करवा कर हीरा व्यापारियों को फंसाते थे फिर पुलिस बल कर लाखों रुपए ऐंठते थे

सूरत. हनी ट्रैप कर व्यापारियों को ब्लैकमेल करने वाले एक गिरोह के तीन जनों को जोन-१ पुलिस ने अपने जाल में फंसा कर गिरफ्तार किया है। उनके खिलाफ अमरोली थाने में मामला दर्ज कर उन्हें तीन दिन के रिमांड पर लिया है।


मामले की जांच कर रहे पुलिस उप निरीक्षक पी.एम.वाला ने बताया कि अमरोली रघुवीर चौकड़ी शिवम अपार्टमेंट निवासी किस्मत उर्फ काना धांधल (25), कामरेज शिवनगर सोसायटी गोविंद रोजिया (३३), छापराभाठा रोड श्रीराम सोसायटी निवासी सेंधा देसाई (39) मिलकर धनी हीरा व्यापारियों को युवतियों के जरिए हनी ट्रैप में फंसाकर उन्हें ब्लैकमेल करते थे।
उनके गिरोह के बारे में मुखबिरों से सूचना मिलने पर पुलिस ने उन्हें रंगे हाथों पकडऩे के लिए जाल बिछाया। पुलिस ने विपुल नामक एक युवक के जरिए उनके मोबाइल नम्बर पर फोन किया तो उन्होंने प्रिया नामक एक युवती से बातचीत करवाई। बातचीत के बाद शुक्रवार को रात साढ़े नौ बजे उसने विपुल को मिलने के लिए जूना कोसाड़ रोड स्थित स्वास्तिक रो हाउस के एक मकान में मिलने के लिए बुलाया। विपुल वहां पर पहुंचा वहां मौजूद युवती से बातचीत की, ठीक उसी समय तीनों वहां पर आ धमके।

अंदर घुसते ही उन्होंने विपुल के आपत्तिजनक स्थिति में धड़ाधड़ फोटो लेने शुरू कर दिए। फिर उनमें से एक ने खुद को पुलिसकर्मी बताते हुए उसे थप्पड़ मारा और पुलिस केस में फंसाने की धमकी दी। विपुल ने उसे छोड़ देने को कहा तो उन्होंने तीन लाख रुपए मांगे। उन्होंने डरा धमकाकर उससे एक लाख रुपए ले लिए और शेष दो लाख रुपए और देने की मांग करने लगे। इस बारे में विपुल से सूचना मिलने पर पुलिस ने तीनों को धर दबोचा। शनिवार शाम पुलिस ने तीनों को अदालत में पेश कर सोमवार तक रिमांड पर लिया है। उनसे उनके गोरखधंधे के बारे में पूछताछ की जा रही है।

युवती की भूमिका भी जांच के घेरे में


उप निरीक्षक वाला ने बताया कि प्रिया नामक युवती की भूमिका को लेकर पड़ताल जारी है। वह भी इस गिरोह में पूरी तरह से शामिल थी, या पकड़े गए तीनों आरोपी मिलकर उसका इस्तेमाल कर रहे थे। इस बारे में पूछताछ की जा रही है। गिरोह में और कौन-कौन शामिल है तथा अब तक कितने लोगों से अवैध वसूली की है। इसका भी पता लगाने के लिए पूछताछ चल रही है।


काना है मास्टर माइंड


पुलिस ने बताया कि किस्मत उर्फ काना गिरोह का मास्टर माइंड है। अपने दोनों साथियों की मदद से वह सोशल मीडिया पर मोबाइल नम्बर वायरल कर धनी व्यापारियों को अपने जाल में फंसाता था और उनसे एक लाख रुपए से लेकर पांच लाख रुपए तक ऐंठता था। इनमें से १५ हजार रुपए युवती को देते थे और ५ हजार रुपए ट्रैप के लिए जिस घर का इस्तेमाल करते थे, उन्हें देते थे।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned