Teacher's day News : शिक्षक करते हैं बच्चों को गढऩे का काम

शि से शिष्ट, क्ष से क्षमा और क से कर्तव्यनिष्ठ अर्थात शिक्षक
शिक्षक दिवस पर चार शिक्षकों का सम्मान
पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाया

By: Sunil Mishra

Published: 05 Sep 2019, 11:11 PM IST


नवसारी. शि से शिष्ट, क्ष से क्षमा और क से कर्तव्यनिष्ठ अर्थात शिक्षक। बच्चों को गढऩे का काम शिक्षक ही करता है। गरीबी और सामाजिक कुरीतियों से बाहर निकलने के लिए शिक्षक और शिक्षा महत्वपूर्ण है। यह बात नवसारी जिले के चार श्रेष्ठ शिक्षकों के सम्मान समारोह में राज्य के सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री ईश्वर परमार ने कही। इस मौके पर नवसारी सांसद सीआर पाटील, जिला पंचायत अध्यक्ष डॉ. अमिता पटेल और कलक्टर आद्रा अग्रवाल भी उपस्थित थीं।
देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाते हुए गुरुवार को मंत्री परमार ने श्रेष्ठ शिक्षक चुने गए गणेश सिसोद्रा की कुमार प्राथमिक शाला की आचार्य पीनल पटेल, गणदेवी की मेंधर प्राथमिक शाला के शिक्षक रमेश पटेल, गणदेवी की खाखवाड़ा प्राथमिक शाला की आचार्य उर्वशी पटेल तथा वांसदा की रंगपुर शाला के शिक्षक नितिन पाठक को शॉल ओढ़ाकर प्रमाणपत्र व नकद पुरस्कार से सम्मानित किया। इस अवसर पर राज्य स्तरीय परीक्षाओं में श्रेष्ठता साबित करने वाले विद्यार्थियों को भी सम्मानित किया गया। नवसारी सांसद सीआर पाटील ने शिक्षकों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि शिक्षा या स्कूल के विकास के लिए जरुरत पडऩे पर पांच लाख तक के अनुदान की घोषणा की।
कलक्टर आद्रा अग्रवाल ने कबीर के दोहे को उद्धृत करते हुए कहा कि जैसे कुम्हार चाक पर गढ़ते समय घड़े को अंदर से समर्थन और बाहर से चोट देता है उसी प्रकार शिक्षकों को बच्चों को समर्थन के साथ सख्ती से गढऩा चाहिए। उन्होंने चारों शिक्षकों को शुभकामना देते हुए उनकी स्कूलों का दौरा करने तथा उनके विचारों व कार्यों को जिले की अन्य स्कूलों में अमल पर लाने के प्रयास की घोषणा की। जिला विकास अधिकारी आरजी गोहिल, जिला शिक्षाअधिकारी रोहित चौधरी समेत कई अधिकारी, कर्मचारी व स्कूलों के शिक्षक तथा आचार्य उपस्थित थे।

Show More
Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned