दस चिकित्सकों का दल गठित

श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति का नया सेवा प्रकल्प

By: Dinesh Bhardwaj

Published: 24 Jul 2020, 09:09 PM IST

सूरत. कोविड-19 से पीडि़त मरीजों के उपचार के लिए जहां स्वास्थ्य विभाग दिन-रात एक कर रहा है वहीं, शहर के कई स्वयंसेवी संगठन भी इसमें सेवारत हैं। इन्हीं संगठनों में शामिल श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति ने सेवा के नए प्रकल्प के रूप में दस चिकित्सकों का दल गठित किया है जो कि कोरोना लक्षण के मरीजों को वीडिय़ो कांफ्रेंस के जरिए चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराएंगे।
समिति के सचिव सुशील बजाज ने बताया कि नर सेवा नारायण सेवा के उद्देश्य से 27 वर्ष पूर्व गठित श्रीलक्ष्मीनाथ सेवा समिति कोरोना महामारी में लगातार जरूरतमंदों के बीच सेवा सेतू बनकर खड़ी है। लॉकडाउन के दौरान 16 लाख जरूरतमंदों को भोजन मुहैया कराने के बाद पिछले दिनों कोविड-19 से बचाव के लिए आयुर्वेदाचार्य हरिशंकर निर्मल द्वारा तैयार 11 जड़ी-बुटियों के रोगप्रतिरोधक काढ़े का वितरण भटार क्षेत्र में लगातार 15 दिन तक किया गया। कोरोना संक्रमित मरीजों में ऑक्सीजन लेवल की कमी को ध्यान में रख समिति ने 50 बड़े सिलेंडर की निशुल्क व्यवस्था भी की है और अब सेवा के नए प्रकल्प के रूप में दस चिकित्सकों का दल गठित किया है। समिति के कोषाध्यक्ष सुनील सिंघल ने बताया कि दल में शामिल चिकित्सक जरूरतमंद मरीजों को वीडिय़ो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दिन-रात चिकित्सकीय मार्गदर्शन देंगे। समिति के अध्यक्ष शिवरतन देवड़ा के नेतृत्व में चार सदस्यों की समिति इस सेवा गतिविधि को संभाल रही है। समिति के मुरारी सर्राफ ने बताया कि सेवा के नए प्रकल्प के पहले ही दिन शहर के 15-20 जनों ने लाभ लिया। यह चिकित्सक लोगों की घर बैठे स्वास्थ्य जांच, चिकित्सकीय मार्गदर्शन व जरूरत पडऩे पर कोविड-19 अस्पताल में भर्ती में भी उचित परामर्श देंगे।

मरीजों को बांटी पुस्तकें


सूरत. नई सिविल अस्पताल व स्मीमेर होस्पीटल में भर्ती मरीजों को उनकी पसंद की पुस्तकें शुक्रवार को बांटी गई है। कोविड-19 के दोनों होस्पीटल में सेवा फाउंडेशन की ओर से हेल्प डेस्क की सुविधा मरीजों के लिए गत दिनों शुरू की गई थी। इसमें हेल्प डेस्क के वॉलिएंटर्स कोरोना मरीजों की वीडिय़ो कॉलिंग के जरिए परिजनों से बातचीत करवाते हैं। अस्पताल में मरीजों के अध्ययन के लिए उनकी मनपसंद पुस्तकें शुक्रवार को डॉ. अमी पाठक, डॉ. गुरप्रीत कौर, डॉ. श्रेयसी ने हिन्दी, अंग्रेजी व गुजराती भाषा में बांटी गई।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned