कई घरों के दरवाजे बाहर से बंद कर एक घर में किया चोरी का प्रयास

- जहांगीरपुरा में चड्डी बनियानधारी गिरोह का आतंक
- जाग हुई तो युवक पर हमला कर भागे

- Attempted burglary in one house by locking the doors of many houses from outside
- When woke up they ran away attacking on young man

 

By: Dinesh M Trivedi

Updated: 17 Mar 2021, 08:31 PM IST

सूरत. शहर की उत्तर-पश्चिमी सीमा पर स्थित जहांगीरपुरा थाना क्षेत्र में चड्डी बनियानधारी गिरोह के आतंक का मामला सामने आया है। बीती रात एक सोसायटी में घुसे गिरोह ने कई घरों के दरवाजे बाहर से बंद कर दिए और फिर एक घर में चोरी का प्रयास किया, लेकिन जाग होने पर एक युवक पर हमला कर भाग निकले। इस घटना के बाद से इलाके के लोगों में दहशत व्याप्त है। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

जानकारी के अनुसार यह घटना थानाक्षेत्र के सारोली चैकपोस्ट के पास स्थित नंदनवन सोसायटी में हुई। मध्यरात्रि बाद आधा दर्जन से अधिक चड्डी बनियानधारी गिरोह के बदमाश सोसायटी में घुस आए। उन्होंने अगल अगल बदल के छह-सात घरों के दरवाजे बाहर से बंद कर दिए ताकी गड़बड़ी होने पर कोई बाहर नहीं आ सके। फिर एक घर में चोरी का प्रयास किया। लेकिन तभी एक युवक जाग गया और वह बाहर निकल आया।

उसे देख बदमाश घबरा गए। उन्होंने युवक पर हमला किया और फिर पकड़े जाने के डर से भाग निकले। सोसायटी के लोगों ने घटना की सूचना जहांगीरपुरा पुलिस की को दी। सुबह पुलिस को सीसीटीवी फुटेज भी दिए। लेकिन किसी ने भी घटना की प्राथमिकी दर्ज नहीं करवाई है। पुलिस का कहना हैं कि सोसायटी के लोग थाने आए थे लेकिन कोई शिकायत दर्ज करवाने के लिए तैयार नहीं हुआ है। वहीं से इस घटना से नंदनवन ही नहीं आस पास की विभिन्न सोसायटियों के लोगों में दहशत व्याप्त हो गई है। लोग सुरक्षा इंतजामों में जुट गए हैं।
0
पुलिस ने भी नहीं दर्ज किया मामला :

घटना को लेकर जहांगीरपुरा थाना प्रभारी केए गढ़वी से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन संपर्क नहीं हो पाया। पुलिस मामले की छानबीन करने का दावा तो कर रही है। लेकिन किसी शिकायत कर्ता के सामने नहीं आने पर सरकार की ओर से स्वयं पुलिस द्वारा मामला दर्ज करने का प्रावधान होने के बावजूद पुलिस ने इस अति गंभीर घटना को लेकर अपनी ओर से भी कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की है।
0
दस साल पूर्व पूरे प्रदेश में थी दहशत :

दस साल पूर्व सूरत शहर ही नहीं पूरे प्रदेश में इस चड्डी बनियानधारी गिरोहों की दहशत व्याप्त थी। ये लोग दर्जनों की तादाद में घरों पर पत्थरों, लाठी, डंडो व कुल्हाड़ों से हमला करते थे और घायल कर कीमती सामान लूट लेते थे। विशेषतौर मुख्य आबादी से कटे हुए ग्रामिण इलाकों को निशाना बनाते थे।पुलिसकर्मियों पर भी हमला कर देते थे। पिछले दशक की शुरुआत में पुलिस ने विशेष अभियान चलाया।

मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र से कई छोटे बड़े गिरोहों को पकड़ा। इनमें सबसे खतरनाक पारघी डकैत गिरोह था। जिसमें अधिकतर महाराष्ट्र के आदिवासी थे। इसके अलावा मध्यप्रदेश व गोधरा क्षेत्र के डफेर व मामा गिरोहों से जुड़े दर्जन अपराधी भी पकड़े गए थे। ये लोग दिन में दिहाड़ी मजूदरी करते थे और रात में बनियान में निकलते थे। पेन्ट को मोड़ देते थे ताकी भागने में आसानी रहे। जहांगीरपुरा पुलिस को भी ऐसे ही किसी गिरोह के फिर सक्रिय होने की आशंका है।

Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned