TEXTILE MINISTER: व्यापारिक संगठनों ने बताई कपड़ा कारोबार की समस्याएं

सूरत कपड़ा मंडी के विभिन्न व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधिमंडल केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी से मिले

By: Dinesh Bhardwaj

Updated: 09 Jan 2021, 08:18 PM IST

सूरत. चेम्बर ऑफ कॉमर्स की ओर से आयोजित टैक्सटाइल मशीनरी की प्रदर्शनी के उद्घाटन मौके पर शनिवार को सूरत आई केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी से सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधिमंडल ने भी मुलाकात की और कपड़ा कारोबार की समस्याओं के बारे में जानकारी दी। ईरानी ने भी वस्त्र मंत्रालय की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधिमंडल को दिया है।
सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारिक संगठन सूरत मर्कंटाइल एसोसिएशन, फैडरेशन ऑफ गुजरात वीवर्स एसोसिएशन समेत अन्य के प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी से मुलाकात की। बातचीत के दौरान व्यापारिक संगठनों ने केंद्रीय मंत्री के समक्ष कपड़ा कारोबार से जुड़ी विभिन्न समस्याओं के बारे में जानकारी दी। इस पर ईरानी ने बताया कि ट्रेडर्स को एमएसएमई का दर्जा दिया गया है और इसमें कहीं कोई दिक्कत हैं तो वे वाणिज्य मंत्रालय को सहयोग के लिए कहेंगी। सूरत गारमेंट हब की मांग को उचित बताते हुए केंद्रीय मंत्री ईरानी ने टैक्सटाइल इंडस्ट्री के डवलपमेंट के लिए रिसर्च, लेबोरेटरी, बांग्लादेश, वियतनाम से फ्री ट्रेड पॉलिसी आदि पर उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। ज्ञापन देने वालों में एसएमए के नरेंद्र साबू, हेमंत गोयल, गौरव भसीन, दुर्गेश टिबड़ेवाल के अलावा फोग्वा के हरी कथीरिया, जयंती जोलवा, किरण ठुम्मर, दीपू अग्रवाल, संजय देसाई समेत अन्य व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधि भी मौजूद थे।

-ज्ञापन में यह रखी मांगें

कपड़ा व्यापारी को एमएमएमई में सरकारी स्कीम का लाभ मिले और टैक्सटाइल इंडस्ट्री का एक्सपोर्ट बढ़ाने के लिए इंसेंटिव बढ़ाया जाए। फ्री ट्रेड पॉलिसी का कपड़ा कारोबारी को लाभ मिले और सूरत में टैक्सटाइल गारमेंट हब बनाया जाए। टैक्सटाइल इंडस्ट्री में रिसर्च लेबोरेटरी, स्किल यूनिवर्सिटी के अलावा सूरत में कपड़ा मंत्रालय का कार्यालय खोला जाए और सूरत से कार्गो सुविधा भी उपलब्ध कराई जानी चाहिए। रुकी हुई सरकारी सब्सिडी तत्काल रिलीज की जाए। इनके अलावा सरकारी योजनाओं की पूरी जानकारी सूरत कपड़ा मंडी के व्यापारियों तक पहुंचे, ऐसी व्यवस्था की जानी चाहिए।

-फोग्वा ने रखी यह मांगें

विदेश से आयातित यार्न एंटी डंपिंग ड्यूटी मुक्त रहे ताकि स्थानीय यार्न उत्पादक कारटेल बनाकर वीवर्स का शोषण नहीं कर सकें। टैौक्सटाइल अपग्रेडेशन स्कीम में मिलती केपिटल सब्सिडी 10 से बढ़ाकर 30 फीसद की जाए। फ्री ट्रेड एग्रीमेंट के तहत बंगलादेश, वियतनाम से आने वाले कपड़े पर रोक लगाई जाए। इनके अलावा फोग्वा ने भी सूरत कपड़ा उद्योग के लिए टैक्सटाइल यूनिवर्सिटी, रिसर्च सेंटर व पावरलूम्स सेक्टर के लिए टैक्सटाइल पार्क बनाए जाने की मांग केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी के समक्ष रखी है।

Dinesh Bhardwaj Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned