TEXTILE NEWS: यह सप्ताह व्यापारिक प्रक्रिया के लिए रहेगा अहम

दीपावली के बाद से जारी अवकाश का माहौल सप्ताह के अंत तक पूरी तरह से हो जाएगा खत्म

सूरत. दीपावली अवकाश के बाद कपड़ा बाजार में व्यापारिक गतिविधि की पूरी तरह से सक्रियता सोमवार से शुरू होने वाले सप्ताह के दौरान दिखाई देना शुरू हो जाएगी। इससे पूर्व के दो सप्ताह कपड़ा बाजार में बगैर व्यापारिक रोनक के बीत गए।
कपड़ा बाजार में प्रत्येक वर्ष दीपावली के बाद पांच दिन तक सामान्य तौर पर अवकाश का माहौल रहता है और लाभपंचमी के मुहूर्त पर कई टैक्सटाइल मार्केट में व्यापारिक प्रतिष्ठानों में पूजा-अर्चना के साथ कारोबार की शुरुआत की जाती है। लेकिन इस बार लाभपंचमी शुक्रवार को होने से कपड़ा बाजार में अवकाश का माहौल अगले दो दिन तक और बना रहा तथा इसके बाद सूरत में मौजूद ज्यादातर कपड़ा व्यापारी अपने प्रतिष्ठानों पर पहुंचे और दोपहर में कुछ घंटों तक व्यापारिक गतिविधियों में सक्रिय रहकर शाम तक घर लौट जाते थे। बीते सप्ताह में इस दौर में अधिक व्यापारिक प्रतिष्ठान खुले और व्यापारियों ने प्रतिष्ठान पर व्यापारिक कामकाज में समय भी अधिक दिया लेकिन इसके बावजूद शनिवार तक कपड़ा बाजार पूरी तरह से नहीं खुला था। कपड़ा बाजार के हृदय सूरत टैक्सटाइल मार्केट व मिलेनियम मार्केट की ही बात कर ली जाए तो दोनों ही बड़ी मार्केट में 40 प्रतिशत प्रतिष्ठान ही खुल पाए थे। अब उम्मीद जताई जा रही है कि सोमवार से शुरू हो रहे नए सप्ताह में ज्यादातर व्यापारिक प्रतिष्ठान खुल जाएंगे और सप्ताह बीतते कपड़ा बाजार पूरी तरह व्यापारिक रंग में रंगा नजर आने लगेगा।


विंटर सीजन का रहेगा जोर


दीपावली के बाद सोमवार से विधिवत तरीके से शुरू होने वाले कपड़ा बाजार का पहला सीजन विंटर सीजन के नाम रहेगा। हालांकि इस दौरान लग्नसरा सीजन भी साथ-साथ चलेगा लेकिन, लग्नसरा सीजन लम्बा होने से इसके प्रति ऑर्डर के मुताबिक कपड़ा व्यापारी थोड़ी अनदेखी बरत सकते हैं मगर विंटर सीजन कम अवधि और सीमित प्रदेश का होने से व्यापारी इस पर पूरी तरह से ध्यान देंगे।


नए सीजन में नई-नई बात


कपड़ा बाजार का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यापारिक संगठन भी अब सक्रिय होने लगे है और दीपावली अवकाश के बाद नए सीजन में उनकी ओर से नई-नई बात सामने आने लगी है। इसमें व्यापार प्रगति संघ ने चेक दो-सस्ता लो...के माध्यम से कपड़ा बाजार में नकद कपड़ा कारोबार पर जोर देने की ठानी है। फिलहाल कपड़ा व्यापारी इस नई बात के हानि-लाभ के गणित में अधिक उलझे है।


फोस्टा भी चर्चा के केंद्र में


दीपावली अवकाश के बाद कपड़ा बाजार में 31 सदस्यीय फैडरेशन ऑफ सूरत टैक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन भी अपनी पुरानी चुनाव नहीं कराने की रीति-नीति के कारण चर्चा के केंद्र में बनी हुई है। 4-5 जनों के इर्द-गिर्द सक्रिय इस संगठन में नए सिरे से चुनाव कराए जाने की मांग एक बार फिर से धीमी गति से जोर पकडऩे लगी है, हालांकि ऐसी ही मांग डेढ़-दो माह पहले भी कपड़ा बाजार से ही उठ चुकी है।

Dinesh Bhardwaj
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned