बदलेगी संघ प्रदेश की महिलाओं की आर्थिक स्थिति

बदलेगी संघ प्रदेश की महिलाओं की आर्थिक स्थिति
बदलेगी संघ प्रदेश की महिलाओं की आर्थिक स्थिति

Dinesh O.Bhardwaj | Updated: 15 Sep 2019, 07:50:19 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

50 प्रतिशत सब्सिडी पर मिलेगी गीर गाय

सिलवासा. पशुपालन विभाग गरीब, विधवा व आर्थिक परिस्थिति से कमजोर आदिवासी महिलाओं को सुदृढ़ बनाने के लिए 50 प्रतिशत सब्सिडी पर गीर गाय उपलब्ध कराएगा। विभाग ने पहले दौर में 600 महिलाओं का चयन किया है। संघ प्रदेश मेंं दूध की मांग अधिक है। यहां पड़़ौसी राज्यों से पेकेटबंद दूध 45 से 50 रुपए लीटर मिलता है। श्वेत क्रांति से आदिवासी महिलाओं को रोजगार मिलेगा व उपभोक्ताओं को गाय का शुद्व दूध नसीब हो सकेगा। पशुपालन विभाग के डॉक्टर विजय परमार ने बताया कि आदिवासी महिलाओं को स्वावलंबी बनाने की दिशा में प्रशासन का यह सराहनीय कदम है। गौपालन से प्रदेश की अर्थ व्यवस्था में सुधार होगा। प्रदेश में बाहर से आने वाले पैकेटबंद दूध पर अंकुश लगेगा। संकलित डेयरी विकास योजना (आईडीडीपी) मेंं स्टाब्लिशमेंट ऑप स्माल स्केल डेयरी यूनिट के तहत रांधा, किलवणी, सुरंगी, खानवेल, दपाड़ा व आंबोली में किसानों को सब्सिडी पर संकर गायें दी गई है।


गीर गाय के दूध में मिनरल्स


वेटेनरी डॉक्टरों के अनुसार गीर गाय के दूध में 8 प्रकार के प्रोटीन, 6 विटामिन, 21 तरह के एमिनो एसिड, 11 चर्बीयुक्त अम्ल, 25 प्रकार के खनिज, दो तरह की शर्करा होती है। इसके दूध में सोना, तांबा, लोहा, कैल्शियम, आयोडीन, फ्लोरिन, सिलिकॉन भी मिले हैं। बच्चे व गर्भवती महिलाओं के लिए गीर गाय का दूध अमृत के समान है।


देशी प्रजातियों की हालत बदतर


अर्थ युग में पशुपालन किसानों को महंगा साबित हो रहा है। किसान देशी प्रजाति की गाय व बैलों को खुले में छोडक़र पिंड छुड़ा रहे हैं। घास व चारा महंगा होने से यह स्थिति उत्पन्न होने लगी है। कृषि क्षेत्र में बैलों की जगह टे्रक्टरो ने ले ली है। संकलित डेयरी विकास योजना से किसान देशी गायों को लावारिस छोडक़र संकर प्रजातियों की ओर आकर्षित हुए हैं। लावारिस छोड़ी गई देशी प्रजातियों की गायें सडक़, सार्वजनिक स्थल, बाजार एवं गांव की गलियारों में जीवन व्यतीत करती हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned