चुनाव में झलका मतदाताओं का उत्साह

चुनाव में झलका मतदाताओं का उत्साह

Dinesh Bhardwaj | Publish: Aug, 12 2018 10:00:18 PM (IST) Surat, Gujarat, India

मतदान

अग्रवाल समाज भवन के बाहर देर रात जमा रहा हुजूम

 

सूरत. घोडदौड़ रोड पर अग्रवाल समाज भवन के बाहर रविवार को सुबह से देर रात तक अग्रवाल समाज के लोगों का चुनाव के प्रति उत्साह बना रहा। अग्रवाल समाज ट्रस्ट बोर्ड व कार्यकारिणी के कुल सात सदस्यों के चुनाव में समाज के 3 हजार 678 मतदाताओं ने भाग लिया। वहीं, मतों की गिनती देर रात तक जारी रही। देर रात चुनाव परिणाम में ट्रस्ट बोर्ड के दोनों पद पर विकास पैनल के वासुदेव चौखाणी व भवानीशंकर जालान विजयी घोषित किए गए।
अग्रवाल समाज ट्रस्ट बोर्ड व कार्यकारिणी के वर्ष 2018-19 के चुनाव रविवार सुबह नौ बजे से घोडदौडऱोड पर अग्रवाल समाज भवन में आयोजित किए गए। चुनाव में अग्रवाल समाज के पुरुषों का ही नहीं बल्कि महिलाओं का उत्साह भी देखते ही बनता था। दोनों पैनल के प्रत्याशी व उनके समर्थकों का हुजूम पीली व केसरिया टीशर्ट में सड़क पर दिनभर छाया रहा। मतदान के लिए भवन पर पहुंचने वाले समाज के एक-एक मतदाता को विकास पैनल व प्रगति पैनल के प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान करने के लिए समझाने वाले उत्साही कार्यकर्ता वहां बड़ी संख्या में मौजूद थे और इनमें महिला कार्यकर्ता भी पीछे नहीं दिखी। चुनाव में भाग ले रहे विकास व प्रगति पैनल के सात-सात उम्मीदवार पूरे दल-बल के साथ सुबह नौ बजे मतदान शुरू होने से शाम पांच बजे तक डटे रहे। मतदान के दौरान मुख्य चुनाव अधिकारी बालकिशन अग्रवाल व सह चुनाव अधिकारी विनोद कानोडिय़ा और मनोज डोहकावाला अपने साथी कर्मचारियों के साथ पूरी तरह सक्रिय रहे। उन्होंने बताया कि मतदान में अग्रवाल समाज के 5 हजार 15 मतदाताओं में से 3 हजार 678 जनों ने मतदान किया।

समाज के प्रति निभाई जिम्मेदारी
अग्रवाल समाज ट्रस्ट बोर्ड व कार्यकारिणी के चुनाव के दौरान समाज के पुरुषों के साथ महिला सदस्य भी उत्साहित रही। चुनाव अधिकारियों ने बताया कि 285 महिला मतदाताओं में दो सौ से ज्यादा ने चुनाव में भाग लिया। इतना ही नहीं चुनाव से पहले प्रचार के दौरान भी दोनों ही पैनल की समर्थक महिलाओं ने घर-घर, समूह में प्रचार किया।
बुजुर्ग मतदाताओं के पास पहुंचे
चुनाव के दौरान रविवार को अग्रवाल समाज के वयोवृद्ध मतदाता भी मतदान स्थल पर मतदान के लिए पहुंचे। हालांकि वे सीढिय़ां चढ़ पाने में असमर्थ होने से भवन में नहीं गए तो चुनाव अधिकारियों ने नैतिक जिम्मेदारी निभाते हुए स्वयं उनके पास बैलेट पेपर लेकर पहुंच गए। बाद में 80 वर्ष से ज्यादा उम्र के मतदाताओं ने बाहर ही मतदान किया।

देर तक चली मतगणना
शाम पांच बजे मतदान पूरा होने के कुछ देर बाद मतों की गिनती शुरू की गई। सीसीटीवी कैमरे व वीडिय़ोग्राफी के बीच मतगणना कर्मियों ने सीलबंद पेटियां खुलने के बाद 25-25 बैलेट पेपर के बंडल बनाए और सर्वप्रथम रद्द मतों की गिनती की गई। इसके बाद पैनल टू पैनल मतों की गिनती की गई और उसके बाद अन्य मत गिने गए।
............

Ad Block is Banned