बड़ा कष्टप्रद है प्रवासी मजदूरों का घर वापसी का सपना

फार्म भरने और जमा कराने में बीत रहा है दिन
कड़ी धूप में घंटों बैठे रहने के बाद लग रहा नंबर


Days are passed in filling and submitting the form
Number of hours after sitting in hard sunlight

By: Sunil Mishra

Published: 12 May 2020, 09:40 PM IST

वापी. वापी और उससे सटे ग्रामीण विस्तारों में रहने वाले सैकड़ों श्रमिकों का पूरा दिन इन दिनों ट्रेन से गांव जाने के लिए आवेदन फार्म भरने और जमा करवाने में बीत रहा है।
बीते दिनों वलसाड और वापी से ट्रेनों को रवाना होने के बाद गांव पहुंचने की उम्मीद लोगों में बढ़ गई है। इसके कारण रोजाना सैकड़ों लोग स्थानीय ग्राम पंचायतों और नगर पालिका के अलावा मामलतदार कार्यालय में पहुंचकर फार्म जमा करवाने की जद्दोजहद में लगे रहते हैं। कई ट्रेनों के रवाना हो जाने के बाद से फार्म जमा करवाने वालों की संख्या रोजाना बढ़ रही है। मंगलवार को भी छीरी पंचायत, चणोद राजस्थान भवन, नगर पालिका और मामलतदार कार्यालय के अलावा अन्य पंचायतों में लोग फार्म जमा करने के लिए सुबह से ही जमा होने लगे थे। दूसरी तरफ छीरी और नगर पालिका मैदान में मंगलवार को भिलाड़ से जौनपुर के लिए रवाना होने वाली ट्रेन के सफर के लिए मेडिकल जांच और टोकन दिया गया। इसके लिए लोग कड़ी धूप में कई घंटे तक जमे रहे। नगर पालिका मैदान में लोगों को धूप में परेशान होना पड़ा। पुलिस की मौजूदगी में सुरक्षित दूरी बनाए रखने का लगातार निर्देश दिया जाता रहा।
राजस्थान भवन से सोमवार रात से लोगों के फार्म जमा करने व टोकन देने का कार्य किया गया। छीरी में भी लोगों की भीड़ को देखते हुए पंचायत की ओर से टेन्ट लगवाया गया, जिससे धूप से उन्हें बचाया जा सके। बताया गया है कि 13 मई को भी दो ट्रेन रवाना होंगी। पूर्व में एक ट्रेन से 1200 लोगों को रवाना किया गया, लेकिन अब कहा जा रहा है कि एक ट्रेन से 1600 से ज्यादा पैसेन्जरों को रवाना किया जाएगा।

https://www.patrika.com/rajnandgaon-news/workers-stranded-in-other-states-to-be-brought-by-train-quarantine-wi-6087375/

https://www.patrika.com/surat-news/the-passengers-of-jodhpur-got-kuppan-will-leave-tomorrow-6093450/

https://twitter.com/ThePeopleOfIN/status/1260238020101337089?s=20

https://www.patrika.com/ahmedabad-news/bhupendrasinh-chudasma-gujarat-minister-high-court-nitin-patel-6091901/

शिक्षकों को भी जिम्मेदारी
गांव जाने वालों के हजारों आवेदन रोजाना आ रहे हैं। प्रशासन सभी आवेदनों को उनके गंतव्य स्थान तक पहुंचाने का प्रयास कर रहा है। ज्यादा आवेदन आने के बाद कई स्कूलों के शिक्षकों को भी इस काम में लगाया गया है। इसमें ज्यादातर हिन्दी भाषी शिक्षक हैं। माना जा रहा है कि अधिकांश आवेदनकर्ता हिन्दी भाषी हंै और उनकी लिखावट को यह शिक्षक अच्छी तरह से समझकर आसानी से फार्म भरने से लेकर उन्हें टोकन देने के काम में सहायक बन सकते हैं।

Sunil Mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned