Unseasonal rains News: बौर से लदे थे आम के पेड़, बरसात ने कर दिया चौपट

बेमौसम बारिश से फसलों को भारी नुकसान


Unseasonal rains cause major damage to crops

By: Sunil Mishra

Updated: 07 Mar 2020, 05:58 PM IST

वलसाड. जिले में कई जगहों पर शुक्रवार सुबह बरसात होने से आम समेत अन्य फसलों को व्यापक नुकसान हुआ है। इससे किसानों में चिंता का माहौल है। जिले में बीते दो तीन दिनों से मौसम में परिवर्तन दिख रहा था और शुक्रवार तड़के ही आसमान में छाए बदल बरस पड़े। वलसाड, धरमपुर, पारडी समेत अन्य जगहों पर कुछ देर बरसात होने पर खेतों में पानी भर गया। इसके कारण फसलों को नुकसान हुआ है। तेज हवाएं और बरसात के कारण आम पर लगी मंजरियों को बहुत नुकसान पहुंचाया है। जिससे आम किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें फैल गई।
वलसाड के किसान जयराज पटेल के अनुसार इन दिनों आम की फसल अच्छी होने वाली थी और मंजरियां भी फूट रही थी। बेमौसम बरसात ने बड़ा नुकसान कर दिया। आगे बरसात होने पर बची उम्मीद भी खत्म हो जाएगी। वहीं दूसरी तरफ बरसात होने पर कई जगह सड़कें पानी ही पानी हो गई थी।

https://www.patrika.com/kota-news/kota-heavy-rain-floods-in-river-drains-roads-became-chambal-river-5118516/

Unseasonal rains News: बौर से लदे थे आम के पेड़, बरसात ने कर दिया चौपट

https://www.patrika.com/jaipur-news/video-rain-with-strong-wind-1190604/

चंद मिनटों की बारिश ने किसानों की खुशी पर फेर दिया पानी
बारडोली. बारडोली समेत सूरत व तापी जिले में शुक्रवार सुबह हुई बारिश ने किसानों की चिंता बढ़ा दी। मावठ के कारण आम, सब्जी, गन्ना और गेहू समेत खेत में खड़ी फसलों को बड़ा नुकसान होने की आशंका है।
सूरत व तापी जिले में गुरुवार रात वातावरण में अचानक बदलाव आने लगा। रात को ठंड हवा चलने के साथ आकाश में बादल छाए रहे। शुक्रवार अलसुबह अचानक हवा के साथ बारिश होने लगी। करीब दस से पंद्रह मिनट तक हुई बारिश से रास्तों पर पानी ही पानी हो गया। बेमौसम बारिश ने किसानों की नींद खराब कर दी। इस साल आम के पेड़ों पर आम्रमंजरी ज्यादा आने से किसानों में खुशी थी, लेकिन कुछ ही मिनटों की बारिश ने किसानों की इस खुशी पर पानी फेर दिया। बारिश के कारण आम्रमंजरी काली पड़ जाने और गिर जाने से आम की फसल चौपट होने की आशंका है। उधर, सब्जी की फसल में भी बड़े पैमाने पर नुकसान हो सकता है। बारिश से सब्जी में कीटकों का उपद्रव बढ़ शकता हंै। गन्ने की फसल पर भी इस बारिश का असर होगा। फिलहाल गन्ना कटाई की कामगिरी जोरों पर है। ऐसे में बारिश होने के कारण खेतों की जमीन नरम हो जाने से खेत में काटा गन्ना ले जाने के लिए वाहन जा नहीं सकते, जिसके कारण किसानों को दिक्कत आ रही है। इस वजह से शुगर मिलों को पेराई कार्य की गति भी कम करनी पड़ी। पूरे दिन ठंडी हवा चलने के कारण रात को फिर से बारिश होने की आशंका से किसानों की चिंता और बढ़ गई है।

Show More
Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned