सौगात बनकर बरसी सावन की बरसात

सौगात बनकर बरसी सावन की बरसात

Dinesh O.Bhardwaj | Updated: 08 Aug 2019, 09:46:10 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

पर्वतीय इलाकों में खोदे गए तालाब, बावड़ी, कुएं आदि ऊपरी किनारों तक भर गए

सिलवासा. प्रदेश के पर्वतीय गांवों में सावन की वर्षा सौैगात से कम नहीं है। भारी बारिश से शेल्टी, रूदाना, तलावली, उमरवरणी, बेड़पा, बेसछा, चिसदा, खेड़पा, सिंदोनी, वांसदा, करचौंद, मेढ़ा, वाघचौड़ा, अंबाबारी, खेरड़ी के तालाब, चेकडेम और कुएं पानी से पहली बार लबाबल भरे हैं। गत सप्ताह में भारी बारिश से नदी, चेकडेम, जलाशन उफन गए हैं। जल संचयन के लिए पर्वतीय इलाकों में खोदे गए तालाब, बावड़ी, कुएं आदि ऊपरी किनारों तक भर गए हैं। दूधनी जलाशय में जलस्तर 30 मीटर ऊंचाई तक पहुंच गया है। दीपावली के बाद वर्षभर पेयजल और सिंचाई की किल्लत दूर हो गई है।
मांदोनी उपसरपंच सावजी गरेल ने बताया कि बीते वर्ष बारिश कम हुई थी, जिससे सिंदोनी, मांदोनी, रूदाना के गांवों में बने तालाब, कुएं गर्मी आने से पहले सूख गए थे। गत वर्ष मानसून की बारिश में तालाब आधे भी नहीं भर सके, जिससे दीपावली के बाद रबी की बुवाई प्रभावित हुई थी। इस बार जल शक्ति अभियान से गांव के लोग पानी का महत्त्व समझे हैं। किसानों ने बारिश से पहले आसपास के तालाब व जलाशयों की साफ-सफाई व टूटी दीवारों की मरम्मत आदि कर ली थी। जिला पंचायत ने गांव का पानी गांव में, खेत का पानी खेत में संचयन के लिए 120 से अधिक कच्चे तालाब किलवणी रांधा, मोरखल, गलौंडा, खेरड़ी, खानवेल, खुटली, मांदोनी, सिंदोनी, दुधनी, कौंचा में गौचरण व सरकारी जमीन पर खोदे हैं। उनमें 90 प्रतिशत तालाब वर्षा जल से लबालब भर गए हैं। किसानों का कहना है कि कच्चे तालाबों में वर्षा जल भरने के लिए इनलेट तथा अतिरिक्त पानी के निर्वहन के लिए आउटलेट वाल्वों की व्यवस्था होनी चाहिए, जिससे तालाबों का पानी मिट्टी में रिसने से रोका जा सके। इस बार भारी बारिश से कुंओं व भू-पृष्ठ पर मौजूद जल भंडारों में भारी वृद्धि हुई है। जिससे भूजल की मात्रा में गिरावट पर रोक लगेगी।


साकरतोड़ व डुंगरखाड़ी ओवरफ्लो


भारी बारिश से ऊंचाई वाले गांवों से निकलने वाली साकरतोड़ व डुंगरखाड़ी नदी में पानी ओवर फ्लो चल रहा है। इन नदियों पर बने चेकडेम व छोटे बांधों पर पानी की दो मीटर से ऊंची चादर चल रही है। चौड़ा में ढाई मीटर ऊंची पानी की चादर बह रही है। बिन्द्राबीन, सुरंगी के चेकडेम भी ओवर फ्लो हो गए हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned