Makar Sankranti: रंगबिरंगी पतंगों से अटा रहा आसमान

दमण में दिखा पतंगबाजी का जोश

संघ प्रदेश दमण दानह में दो दिन चला दान-पुण्य का दौर


Kite flying enthusiasm seen in Daman


Two days of charity and charity went on in Union Territory of daman &Danah

Sunil Mishra

January, 1507:56 PM

दमण. दमण में मकर संक्रांति का पर्व हर्षोल्लास से मनाया गया। इस मौके पर लोगों में पतंगबाजी का खूब जोश दिखा। 14 एवं 15 जनवरी को लगातार दो दिनों तक हजारों लोग ग्राउंड पर तथा बिल्डिंगों के टैरेस पर पतंगबाजी करते दिखे। लोगों ने दान पुण्य भी किया। अधिकांश लोगों ने मकर सक्रांति का पर्व बुधवार को मनाया।

प्रदेशभर में मकर संक्रांति की धूम, घाटों पर लगा आस्था का मेला, पवित्र स्नान को उमड़ा श्रद्धालुओं का हुजूम

Ahmedabad पतंगबाजी से गुलजार होगा गुजरात, राजस्थान सहित भारत के कई हिस्सों में अलग अलग समय पर होती है पतंगबाजी

मकर संक्रांति पर राज्यपाल और सीएम योगी ने दी बधाई, कहा - यह पर्व सभी के जीवन में खुशियों का संचार करे

Makar Sankranti: रंगबिरंगी पतंगों से अटा रहा आसमान

Manufacturer busy making kites: इस बार आसमान में नहीं दिखेंगी चाइनीज पतंगें

दानह में दो दिन चला दान-पुण्य का दौर

सिलवासा. प्रदेश में उत्तरायण पर्व मंगलवार एवं बुधवार दोनों दिन मनाया गया। इस अवसर पर मंदिरों में दान-पुण्य एवं बस्ती एवं सोसायटियों में पतंगबाजी का खेल छाया रहा। इमारतों की छतों पर बच्चों के साथ बड़े-बूढ़े एवं महिलाओं ने भी पतंगबाजी के पेंच लड़ाए। आमली गायत्री, लवाछा, नरोली, बोंता, बिन्द्राबीन, खानवेल, दादरा, रखोली मंदिर में हवन, जाप, दान-पुण्य आदि अनेक धार्मिक कार्यक्रम संपन्न हुए। दान-पुण्य के कारण मंदिरों के बाद भिखारियों की लम्बी भीड़ देखी गई।

अधिकांश लोगों ने मकर संक्रांति का पर्व बुधवार को मनाया
अधिकांश लोगों ने मकर संक्रांति का पर्व बुधवार को मनाया। महिलाओं ने दान-पुण्य के पर्व पर एक दूसरे को तिल व गुड़ का दान किया। लोगों ने आपस में तिल व गुड़ के लड्डू बांटे। आमली सांई सृष्टि, तिरूपति रेजिडेंसी, बालाजी विहार, सांई धाम, बसेरा, पार्क सिटी, प्रमुख गार्डन, गार्डन सिटी, नैनो सिटी सहित लगभग सभी सोसायटियों में नवविवाहिताओं ने सास को वायना देकर आशिर्वाद प्राप्त किया। व्यापारियों ने अनाथ आश्रमों में जाकर खिचड़ी खिलाई। बिन्द्राबीन व लवाछा मंदिर में जप, तप, दान, हवनादि जैसे कार्यक्रम आयोजित हुए। श्रद्धालुओं ने गरीबों को तिल के लड्डू, गुड़, कपड़ा, शुद्ध घी एवं कम्बल दान किए। गायत्री मंदिर में श्रद्धालुओं ने गुड़ तिल, उड़द, चिवड़ा, ऊनी वस्त्र, कम्बल बांटे। आमली बालाजी मंदिर के पास अल्पाहार एवं गायों को हरा चारा खिलाया तथा भिखारियों को कम्बल, तिल के लड्डू बांटे। गांवों में भी मकर संक्राति पर मंदिरों में विशेष पूजा और धार्मिक अनुष्ठान हुए। नरोली, दादरा भवानी मां के दरबार में श्रद्धालुओं ने नए वस्त्र धारण करके हवन, पूजा-अर्चना, अनुष्ठान, भजन व महाप्रसाद रखा। श्रद्धालुओं ने मां के मंदिर में पुष्प, धूप, दीपक व नैवेद्य लगाकर जाप किए। भक्तों ने गुड़, तिल, तेल एवं घी से बना प्रसाद चढ़ाकर दुर्गा पाठ किया।

Show More
Sunil Mishra Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned