COVID 19 सूरत में कम्युनिटी टैस्टिंग पर बढ़ेगा फोकस

लगातार दो दिन तीन-तीन पॉजिटिव मामले सामने आने पर मनपा प्रशासन हुआ गंभीर, आयुक्त ने अतिरिक्ति निगरानी की दी हिदायत

By: विनीत शर्मा

Published: 06 Apr 2020, 09:43 PM IST

विनीत शर्मा

सूरत. करीब 65 लाख की आबादी में कोरोना के प्रदर्शन को लेकर सूरत की स्थिति हालांकि अन्य शहरों के मुकाबले बेहतर है, लेकिन लगातार दो दिन कोरोना के तीन-तीन पॉजिटिव मामले सामने आने से प्रशासन गंभीर हुआ है। मनपा प्रशासन ने स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए कम्युनिटी टैस्टिंग पर फोकस बढ़ाने की कवायद शुरू की है। कोरोना प्रभावित इलाकों में जाकर अधिक से अधिक लोगों की सैम्पलिंग की जाएगी।

शहर की आबादी करीब 65 लाख है और यहां से विदेश आने-जाने वालों की बड़ी संख्या है। हीरा कारोबारी आए दिन बिजनस के सिलसिले में देश के बाहर जाते रहते हैं। हिंदुस्तान के मैनचेस्टर के रूप में पहचान बना चुकी टैक्सटाइल इंडस्ट्री से जुड़े निर्यातक भी ऑर्डर लेने के लिए महीने-बीस दिन में एक बार तो देश के बाहर जाते ही हैं । टैक्सटाइल इंडस्ट्री से जुड़े ऐसे कारोबारियों की संख्या भी कम नहीं है, जिनका व्यापारिक संपर्क चीन से जुड़ा है और आए दिन चीन आना-जाना रहता है। ऐसे में कोरोना के मरीजों का जो आंकड़ा सामने आया है, वह काफी हद तक संतोषजनक कहा जा सकता है। जानकारों के मुताबिक सूरत मनपा की सक्रियता की वजह से ही तमाम संभावनाओं के बावजूद कोरोना शहर में आक्रामक रुख नहीं ले पाया। मनपा प्रशासन ने समय रहते ट्रिपल टी (ट्रैकिंग, टैस्टिंग और ट्रीटमेंट) अप्रोच पर अमल शुरू किया, एक ही क्षेत्र से संदिग्ध मरीजों की संख्या बढ़ती देख मास क्वारन्टाइन पर भी अमल शुरू कर दिया था। इसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आए और मरीजों की संख्या नियंत्रित ही रही।

इसके बावजूद बीते दो दिनों से शहर में कोरोना के नए पॉजिटिव मामलों की संख्या बीते दिनों के मुकाबले अधिक है। लगातार दो दिन तीन-तीन मरीजों के सामने आने के बाद से मनपा प्रशासन ने इसे अलार्मिंग अलर्ट माना है। इसे देखते हुए जहां स्ट्रेटेजी को और ज्यादा प्रभावी बनाया जा रहा है, अधिकारियों को भी विशेष सावधानियां बरतने और निगरानी बढ़ाने की हिदायत दी गई है। इसके लिए मनपा के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के संदिग्धों की शिनाख्त के लिए कम्युनिटी टैस्टिंग पर बढ़ेगा फोकस की कवायद शुरू की है। इसके तहत खासकर उन इलाकों में जहां से कोरोना के मरीजों और संदिग्धों की संख्या अधिक है, कम्युनिटी टैस्टिंग की जाएगी। साथ ही रुटीन चेकअप में भी कोई केस संदिग्ध दिखा तो उसकी कोरोना जांच कराई जाएगी।

इसके अलावा कम्युनिटी इन्फार्मेशन शेयरिंग सिस्टम को भी और समृद्ध किया जाएगा। इसके लिए लोगों में जागरुकता बढ़ाई जाएगी कि वे अपने आस-पड़ो में नजर रखें और कोई संदिग्ध व्यक्ति या बाहर से यात्रा कर लौटा हो तो उसकी जानकारी मनपा के साथ साझा करें। शहर में कोरोना के मरीजों की नियंत्रित संख्या के लिए यह कम्युनिटी इन्फार्मेशन शेयरिंग सिस्टम भी मनपा के लिए खासा उपयोगी साबित हुआ है। मनपा के डिप्टी कमिश्नर हैल्थ डॉ. आशीष नायक के मुताबिक कम्युनिटी टैस्टिंग से कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण पाया जा सकेगा।

Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned