Education; विश्व का यह पहला कॉलेज है जहां विद्यार्थियों के लिए शुरू किया गया रोने का पीरियड

Education; विश्व का यह पहला कॉलेज है जहां विद्यार्थियों के लिए शुरू किया गया रोने का पीरियड
file image

Sandip Kumar N Pateel | Publish: Oct, 11 2019 02:11:05 PM (IST) | Updated: Oct, 11 2019 02:11:06 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India

विद्यार्थियों में तनाव कम करने के लिए सूरत की स्वामीनारायण फिजियोथेरापी कॉलेज ने क्राइम क्लब के सहयोग से कॉलेज में शुरू किया क्राइंग पीरियड

शहर के डॉक्टर्स हर हप्ते गमगीन किस्से सुना कर विद्यार्थियों को रूलाएंगे

सूरत. कॉलेज (College) में पढ़ाई (Education) के साथ खेल-कूद (Sports) या अन्य प्रवृत्तियों के लिए पीरियड्स (Periods) होते है, लेकिन सूरत की एक कॉलेज ऐसी है, जहां कॉलेज प्रशासने विद्यार्थियों के लिए रोने का (क्राइंग) पीरियड शुरू किया है। हप्ते में एक बार यह पीरियड होता है, जिसमें विद्यार्थियों (Student) को सिर्फ रूलाया (Crying Club) जाता है। दावा है कि विश्व (World) का यह पहला कॉलेज है कि जहां रोने का भी एक पीरियड शुरू किया गया है। इस तरह की अनोखी पहल करने वाली कॉलेज है सूरत की स्वामीनारायण फिजियोथेरापी कॉलेज।


कॉलेज के संचालकों ने बताया कि रोने से व्यक्ति का मन हलका हो जाता है और तनाव से मुक्ति मिलती है। हमारे विद्यार्थी तनाव मुक्त रहे इस लिए इस तरह रोने के एक पीरियड की शुरूआत की गई है, जिसमें शहर के कुछ डॉक्टर्स तथा क्राइंग क्लब के संचालक कमलेश मसालावाला हप्ते में एक बार कॉलेज आकर विद्यार्थियों को गमगीन किस्से सुना कर रूलाएंगे। यही नहीं विद्यार्थी भी अपने किस्से बताकर सभी को रोने के लिए मजूबर कर देंगे।


इस लिए रोना जरूरी है


कई बार हमारे जीवन में कुछ ऐसी घटनाएं होती है कि हम किसी को बता नहीं सकते और अंदर ही इस बात को दबाए रखने से तनाव महसूस करने लगते है। घूटन सी महसूस होने लगती है और अंत में व्यक्ति मानसिक बीमारी का शिकार हो जाता है। यदि व्यक्ति अपनी अंदर की बाते एक दूसरे को बताए और दिल खोल कर एक बार रो ले तो उसका मन हलका हो जाता है और तनाव से उसे मुक्ति मिल जाती है।


रोने के अन्य फायदें


- रोने से शारीरिक और मानसिक तनाव से राहत मिलती है
- मन हलका हो जाता है
- आंखो को ठंडक मिलती है
- दिगाम में ताजगी महसूस होती है

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned