ONLINE CHEATING : सूरत की साख को बट्टा लगा रहे ठग कानूनी कार्रवाई नहीं होने का उठाते हैं फायदा


- ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के खरीददार अन्य शहरों में होने के कारण अधिकतर शिकायतें पुलिस तक नहीं पहुंचती

 

By: Dinesh M Trivedi

Published: 24 Jul 2021, 10:41 AM IST

दिनेश एम.त्रिवेदी

सूरत. सूचना प्रौद्योगिकी में क्रांति के चलते देश और दुनिया में ई कॉमर्स यानी ऑनलाइन कारोबार का दायरा दिन दो गुनी रात चौगुनी तेजी से बढ़ रहा हैं। ऐसे में सिल्क सिटी के नाम से देश और दुनिया में अपनी पैठ जमाने वाला सूरत का कपड़ा बाजार भी विभिन्न ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए दूर दराज ग्राहकों व छोटे कारोबारियों तक सीधे पहुंच बना रहा हैं। लेकिन कुछ ठग व जालसाज इन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का दुर्पयोग कर शहर की साख को बट्टा लगा रहे हैं।

लंबे समय से ठग सूरत की साख का इस्तेमाल कर यू ट्युब, व्हॉट्सएप, इंस्टाग्राम समेत विभिन्न प्लेटफॉर्म के जरिए ठगी कर रहे हैं। वे विभिन्न ऑनलाइन प्लेटफॉर्म में पर अच्छी गुणवत्ता का माल दिखाते हैं। फिर सस्ते में माल देने का झांसा देकर अग्रिम भुगतान लेते हैं। उसके बाद खरीददारों को हल्की गुणवत्ता का या गलत माल भेज कर उनके साथ ठगी करते हैं।

कानूनी कार्रवाई नही होने के कारण इन ठगों के हौसले बुलंद हैं। क्योंकि ऑनलाइन धोखाधड़ी के अधिकतर मामले पुलिस तक पहुंच ही नहीं पाते हैं। इन ठगों के झांसे में आकर कपड़ा खरीदने वाले अन्य राज्यों के व्यापारी व फूटकर ग्राहक शुरू में छोटे ऑर्डर ही देते हैं। जो कुछ हजार रुपए तक ही सीमित होते हैं। ऐसे में धोखा होने पर वे कड़े मन से नुकसान सहन भी कर लेते हैं।

क्योंकि सूरत आकर ठगों की खोजबीन करने और कानूनी कार्रवाई करने का उनके पास समय नहीं होता हैं। वे इसे बस एक सबक की तरह लेते हैं। वहीं कई तो पुलिस और कानूनी कार्रवाई भी कतराते हैं। जिसका ये ठग गिरोह भरपूर फायदा उठाते हैं। थोडा थोड़ा कर चंद दिनों में ही लाखों बटोर लेते हैं। ठगों का स्थाई कारोबार नहीं होने के कारण इन्हें अपनी साख की भी कोई चिंता नहीं होती। उन्हें इन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म नए नए खरीददार मिलते रहते हैं।

वहीं इसका खामियाजा शहर के प्रतिष्ठित व्यापारियों को भुगतना पड़ता हैं। ठगों का शिकार हुए व्यापारी व ग्राहक एक बार धोखाधड़ी का शिकार होने के बाद इन प्रतिष्ठित व्यापारियों से भी माल लेने में हिचकते है। इन ठगों की सक्रियता के कारण पिछले कुछ समय शहर के प्रतिष्ठित व्यापारियों को कुछ ऐसी ही मुश्किलों का सामान करना पड़ रह हैं।

स्थानीय कारोबारियों ने दर्ज करवाएं थे मामले

गत वर्ष रेशमवाला मार्केट के एक आरोपी द्वारा यु ट्युब पर उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ के व्यापारियों के अच्छी गुणवत्ता का माल दिखा कर हल्की गुणवत्ता का माल बेज कर १.५२ लाख रुपए की ठगी का मामला सलाबतपुरा थाने में दर्ज हुआ था। इस मामले में उन व्यापारियों से शिकायत मिलने पर स्थानीय कारोबारी ने महेश पाटोदिया ने १७ दिसम्बर २०२० को प्राथमिकी दर्ज करवाई थी।

मध्यप्रदेश की महिला ने की थी शिकायत

गत फरवरी में मध्यप्रदेश की एक महिला को भी 5000 हजार रुपए की साड़ी का फोटो दिखा कर 500 रुपए की साड़ी भेजी गई थी। महिला ने जागरुकता का परिचय देकर ईमेल से पुलिस को शिकायत भेजी थी। इस तरह की गिनी चुनी शिकायतें ही पुलिस तक पहुंच पाई हैं। जिनमें कार्रवाई हुई हैं।
----------

Show More
Dinesh M Trivedi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned