टोकरखाड़ा स्काई ब्रिज का कार्य कछुआ गति से

टोकरखाड़ा स्काई ब्रिज का कार्य कछुआ गति से

Sunil Mishra | Publish: Mar, 17 2019 08:23:47 PM (IST) Surat, Surat, Gujarat, India


11 करोड़ की लागत से स्काई ब्रिज पहले 18 माह में पूर्ण होना था
ब्रिज की सरंचना में बार-बार फेरबदल बना देरी का कारण


सिलवासा. टोकरखाड़ा स्काई ब्रिज की आधारशिला को तीन वर्ष पूरे हो गए हैं, लेकिन निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है। योजना एव विकास प्राधिकरण (पीडीए) ने स्काई ब्रिज के निर्माण में पहले वर्ष जल्दबाजी दिखाई थी, लेकिन बाद में ग्रहण सा लग गया। करीब 11 करोड़ की लागत से स्काई ब्रिज पहले 18 माह में पूर्ण होना था।
स्काई ब्रिज के स्तम्भों पर स्लैब निर्माण शेष है। ओवरब्रिज प्रोजेक्ट पर लोगों ने शुरू से नाराजगी जताई थी। निर्माण में समय अधिक लगने से स्काई ब्रिज काफी समय से यातायात समस्या का कारण बना हुआ है। यह ब्रिज डेढ़ वर्ष में बनकर तैयार होना था, लेकिन सरंचना में बार-बार फेरबदल की वजह से तय सीमा में पूरा नहीं हो सका है। पीडीए के अधिकारी ए भट्ट ने बताया कि टोकरखाड़ा जंक्शन से बस स्टेण्ड व डॉन होटल की ओर जाने वाली दोनों दिशा के ब्रिज योजना में संशोधन किया है। पहले ब्रिज टोकरखाड़ा जंक्शन से दोनों दिशाओं में एसटी बस स्टैण्ड व बड़ौदा बैंक तक का प्रस्ताव था। ब्रिज निर्माण के कारण सामरवरणी की ओर आवागमन करने वाले वाहनों को जाम का सामना करना पड़ता है। स्कूल समय में विद्यार्थियों के आवागमन से यह मार्ग पूरी तरह अवरूद्ध हो जाता है। प्रशासन ने टोकरखाड़ा शिक्षण कैम्पस में आवागमन करने वाले विद्यार्थियों के हितों को देखते हुए तीन वर्ष पूर्व स्काई ब्रिज की आधारशिला रखी थी। ब्रिज निर्माण के बाद टोकरखाड़ा स्कूल के विद्यार्थी एवं सडक़ किनारे पैदल चलने वालों का आवागमन सुगम हो जाएगा। तथा बस स्टेण्ड से कोर्ट तक भारी वाहनों के ट्रेफिक से निजात मिलेगी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned