सफर करने स्टेशन पहुंचे यात्री, नहीं आई ट्रेन

रेलवे ने की थी गांधी जयंती से वलसाड-भुसावल ट्रेन चलाने की घोषणा

By: Sunil Mishra

Published: 07 Oct 2018, 07:34 PM IST


वलसाड. कुछ दिन पहले रेलवे ने दो अक्टूबर से वलसाड-भुसावल ट्रेन चलाने की घोषणा की थी। इस बीच ट्रेन पकडऩे पहुंचे काफी यात्रियों को जब पता चला कि वलसाड से भुसावल तक ट्रेन चलने के कोई आसार नहीं हैं तो वे खुद को ठगा महसूस करने लगे। जब इस बारे में स्टेशन के अधिकारियों से पूछा गया तो उन्होंने इस तरह की ट्रेन चलने की जानकारी से ही अनभिज्ञता जता दी।
गौरतलब है कि 21 सितम्बर को कई अखबारों में वलसाड से भुसावल वाया भेस्तान होकर दो अक्टूबर से ट्रेन शुरू होने की घोषणा की गई थी। इसमें बताया गया था कि सप्ताह में तीन दिन मंगलवार, बुधवार और शनिवार को ट्रेन चलेगी। इससे भुसावल के लोगो में खुशी छा गई थी। मंगलवार सुबह काफी यात्री स्टेशन पर पहुंच गए और पांच बजे से ही ट्रेन का इंतजार करने लगे। जब छह बजे तक ट्रेन नहीं आई तो यात्रियों ने खिड़की पर पूछताछ की। वहां से बताया गया कि ऐसी किसी ट्रेन का नाम उनकी सूची में नहीं है। इसके बाद भी लोग आठ बजे तक इंतजार करते रहे। तब तक इस ट्रेन के बारे में कोई घोषणा न होने से लोग ठगा महसूस करने लगे और बाद में अन्य ट्रेन में सूरत के लिए निकल गए। जहां से नंदूरबार के लिए किसी ट्रेन की राह देखेंगे। मोगरावाड़ी निवासी वासुदेव ने बताया कि वलसाड से भुसावल तक ट्रेन शुरू होने के बारे में जानकारी पाकर बहुत खुश था और आज माता पिता को छोडऩे आया। वहीं, यहां आकर पता चला कि कोई ट्रेन नहीं है तो वापस लौट रहा हूं। इतना ही नहीं मराठी समाज के कई लोग ट्रेन का स्वागत करने भी पहुंचे थे। ट्रेन नहीं होने से उनका उत्साह काफूर हो गया। ट्रेन का स्वागत करने पहुंचे विष्णु ने बताया कि इससे बहुत निराशा हुई है। स्टेशन मैनेजर रमणलाल से इस संबंध में पूछने पर उन्होंने कहा कि भुसावल के लिए यहां से कोई ट्रेन नहीं चलने वाली है। जबकि एआरएम संजय ने बताया कि यह वाट्सअप पर वायरल फर्जी खबर है, लेकिन जब अखबारों में छपी कटिंग भेजी गई तो आगे कोई जवाब नहीं दिया।

खेरगाम-चिखली मार्ग दस फीट होगा चौड़ा
खेरगाम. अतिव्यस्त और कई गांवों को जोडऩे वाले स्टेट हाइवे को चौड़ा करने की मंजूरी सरकार से मिलने के बाद मार्ग व मकान विभाग ने सड़क किनारे के पुराने पेड़ों को काटने और हटाने का काम शुरू कर दिया है। यह काम कई दिनों से चल रहा है। धरमपुर-कपराड़ा होकर नासिक जाने वालों को इससे बहुत सहूलियत होगी। इस मार्ग पर व्यस्त ट्रैफिक को देखते हुए स्थानीय नेताओं द्वारा मार्ग को चौड़ा करने की मांग की गई थी। अब रास्ते की चौड़ाई दस फीट और ज्यादा करने को मंजूरी मिल गई है। इससे दोनों ओर के पुराने व रास्ते में आने वाले पेड़ों को काटा जा रहा है। मंगलवार को भी यह कटाई जारी रही। खेरगाम-चिखली रोड पर पेड़ों को काटे जाने के कारण आधे घंटे तक आवाजाही रोक दी गई थी। इससे दोनों ओर ट्रैफिक जाम लग गया था। मार्ग मकान विभाग के अधिकारी यूजी पटेल ने बताया कि धरमपुर की ओर जाने वालों को इससे बहुत राहत होगी। खेरगाम मुख्य बाजार से भैरवी चार रास्ता तक का बरसात में खराब हुआ मार्ग भी बनेगा।

Sunil Mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned