वलसाड से सूरत के बीच यात्रियों ने तीन बार चेन पुलिंग कर इंटरसिटी को रोका

वलसाड-दाहोद इंटरसिटी में एलएचबी रैक लगाने के बाद की जा रही है कोच बढ़ाने की मांग

सूरत के उप स्टेशन अधीक्षक कार्यालय का घेराव किया

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 04 Apr 2019, 08:55 PM IST

सूरत.

वलसाड-दाहोद इंटरसिटी के वलसाड से रवाना होने के बाद सूरत पहुंचने तक तीन स्टेशनों पर यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोका। ट्रेन सूरत पहुंचने के बाद यात्रियों के दल ने उप स्टेशन अधीक्षक कार्यालय का घेराव किया। उन्होंने एक प्रथम श्रेणी एवं पांच जनरल कोच बढ़ाने की मांग की। यात्रियों ने रेलवे शिकायत पुस्तिका में भी अपनी शिकायत दर्ज करवाई।

 


वलसाड-दाहोद इंटरसिटी प्रतिदिन वलसाड से सुबह 7.15 बजे रवाना होकर 8.30 बजे सूरत पहुंचती है। पश्चिम रेलवे ने 29 मार्च से इस ट्रेन को परम्परागत कोचों के स्थान पर एलएचबी कोचों के साथ चलाने की व्यवस्था की है। रेलवे ने यात्रियों को और अधिक आरामदायक सफर उपलब्ध कराने का दावा किया था, लेकिन यात्रियों के लिए एलएचबी कोच की नई रैक सुविधा के स्थान पर मुसीबत लेकर आई है। इस ट्रेन में एसी एक्जिक्यूटिव चेयर कार, एसी चेयर कार और द्वितीय श्रेणी के सामान्य डिब्बे लगाए गए हैं।

 

जेडआरयूसीसी सदस्य राकेश शाह ने बताया कि वलसाड-दाहोद इंटरसिटी में पासधारक यात्रियों की संख्या अधिक होती है, जो प्रतिदिन इस ट्रेन से नौकरी या व्यवसाय के लिए वलसाड से दाहोद के बीच यात्रा करते हैं। जबसे एलएचबी कोच लगाए गए हैं, यात्रियों को बैठने में काफी दिक्कतें आ रही हैं। सीट मुताबिक कुछ यात्रियों के बैठने के बाद पैसेज में यात्रियों की भीड़ जमा हो जाती है।

 

राकेश ने कुछ दिन पहले मुम्बई मंडल के डीआरएम तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से बात कर कोच बढ़ाने की मांग की थी। बुधवार को ट्रेन वलसाड से ७.१५ बजे रवाना हुई तो यात्रियों ने चेन पुलिंग कर इसे रोक दिया। ट्रेन बिलीमोरा पहुंची तो वहां भी यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोक दिया। इसके बाद ट्रेन अमलसाड और फिर नवसारी स्टेशन पहुंची।

 

यहां भी यात्रियों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन को रोके रखा। बार-बार हो रही चेन पुलिंग से सैकड़ों यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। ट्रेन सुबह 9.23 बजे सूरत पहुंची और 9.27 बजे रवाना हो गई। वलसाड, बिलीमोरा और नवसारी से सूरत पहुंचे यात्रियों का दल उप स्टेशन अधीक्षक कार्यालय का घेराव करने पहुंच गया। यात्रियों की मांग थी कि इस ट्रेन को पुराने कोचों के साथ चलाया जाए या कोचों की संख्या बढ़ाई जाए। यात्रियों ने एक प्रथम श्रेणी तथा पांच जनरल कोच बढ़ाने की मांग की है। यात्रियों ने इस बारे में अधिकारियों को ज्ञापन दिया। साथ ही रेलवे स्टेशन की शिकायत पुस्तिका में भी मामला दर्ज करवाया।

 


महिला कोच बढ़ाने की मांग

यात्रियों की शिकायत है कि एक कोच में करीब चालीस यात्री खड़े-खड़े सफर करने को मजबूर हो रहे हैं। पुराने कोच में यात्री ऊपर की सीट पर बैठकर सफर कर लेते थे। नए एलएचबी कोच में यह सुविधा नहीं है। 14 कोच में कम से कम ४०० से ५०० यात्री खड़े होकर सफर करते हैं। इनमें महिलाएं और वृद्ध यात्री शामिल हैं। यात्रियों ने कहा कि वलसाड-दाहोद इंटरसिटी में महिलाओं के लिए कोच बढ़ाने की जरूरत है। राकेश ने यात्रियों की तकलीफ के बारे में डीआरएम, सीनियर डीओएम, एआरएम वलसाड तथा एआरओ सूरत को जानकारी दी है।

 


नए एलएचबी कोच से यात्रियों की सुरक्षा बढ़ी है। रेलवे सभी पुराने कोचों को एलएचबी कोचों से बदल कर यात्रियों की सुरक्षा बढ़ाने पर ध्यान दे रही है। यात्रियों की कोच बढ़ाने की मांग को मंडल तक पहुंचा दिया गया है।

सी.आर. गरूड़ा, स्टेशन निदेशक, सूरत

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned