पर्यावरण संतुलन के लिए पेड़-पौधे जरूरी : ईश्वर भाई पटेल

पर्यावरण संतुलन के लिए पेड़-पौधे जरूरी : ईश्वर भाई पटेल

Sandip Kumar N Pateel | Publish: Aug, 12 2018 09:15:07 PM (IST) Surat, Gujarat, India

हांसोट में वन महोत्सव का आयोजन

भरुच. सहकारिता राज्यमंत्री ईश्वर पटेल ने कहा कि पर्यावरण संतुलन के लिए पेड़-पौधा अत्यंत जरूरी है। राज्य सरकार की ओर से प्रदेश भर में चलाए जा रहे पौधारोपण अभियान से पर्यावरण संतुलन को बनाए रखने का काम किया जा रहा है। अंकलेश्वर सामाजिक वन विभाग की ओर से आयोजित अंकलेश्वर हांसोट तहसील के तहसील स्तरीय वन महोत्सव कार्यक्रम में भाग लेने के लिए रविवार को पहुंचे सहकारिता राज्यमंत्री ईश्वर पटेल ने उक्त उद्गार व्यक्त किया।


उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित लोगो से कहा कि हांसोट तहसील का इलाका क्षारीयता की समस्या से जूझ रहा था, लेकिन सरकार की ओर से लगाए गए मेन्ग्रोव पौधे की वजह से इस समस्या में काफी हद तक कमी आई है। उन्होंने लोगों से भी ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण करने की अपील की। इस अवसर पर एसडीएम रमेश भगोरा, वन संरक्षण अधिकारी भावना बेन देसाई, आरएफओ जे.पी. गांधी, वनपाल एम.एम. गोहिल, पी.एन. पटेल, सीआईएसएफ कमांडर पाल सिंह दिनकर, हांसोट तहसीदार जे.एस. राठवा, हांसोट तहसील पंचायत प्रमुख जशु बेन पटेल, अंकलेश्वर नपा प्रमुख दक्षा बेन शाह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

 

गुजराती सावन माह के प्रथम दिन शिवालयों में उमड़े श्रद्धालु


भरुच. पवित्र श्रावण माह का शुभारंभ गुजरात में रविवार से शुरू हो गया। सावन माह के प्रथम दिन विभिन्न शिवालयों में सुबह से ही भक्तों की भीड़ पूजा-अर्चना लगी रही। पूरे सावन माह तक लोग भोलेनाथ की आराधना में जुटे रहेंगे। सावन माह के प्रति सोमवार को जिले भर के विभिन्न शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ेगी। श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की परेशान न हो इसके लिए मंदिर मंडल की ओर से तैयारियां पूरी कर ली गई है। रविवार को शिवालयों में शिवभक्तों की ओर से शिवलिंग पर जलाभिषेक और बेल पत्र अर्पित किया गया। वर्ष के बारह माह में भक्ति के लिए चार्तुमास को श्रेष्ठ माना जाता है और इसमें भी सावन माह को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। सावन माह शिवजी का अतिप्रिय माह माना जाता है। सावन माह में सभी स्थानो पर शिव भक्ति देखने को मिलती है। हर शिवमंदिर बोल बम के नारे से गूंज उठते हैं। सावन माह की शुरुआत होने पर भरुच और नर्मदा जिले के विभिन्न शिव मंदिरों में लोग पूजा पाठ व दर्शन के लिए आने लगे थे। नदी किनारे स्थित विविध शिवालयों के साथ जिले भर के शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रही।

Ad Block is Banned