स्वाइन फ्लू के दो पॉजिटिव मरीज आए सामने

स्वाइन फ्लू के दो पॉजिटिव मरीज आए सामने

Sanjeev Kumar Singh | Publish: Sep, 04 2018 12:46:39 PM (IST) Surat, Gujarat, India

अब तक शहर में कुल चार पॉजिटिव मरीज मिले, तीन उपचाराधीन

सूरत.

शहर के पॉश इलाके वेसू तथा उत्राण क्षेत्र में रविवार को स्वाइन फ्लू के दो और पॉजिटिव मरीज सामने आए हंै। अब स्वाइन फ्लू के कुल मरीजों की संख्या चार हो गई है। इसमें तीन पॉजिटिव मरीज भर्ती हंै।

 

मनपा स्वास्थ्य विभाग के अनुसार शहर के वेसू क्षेत्र में पैंतीस वर्षीय व्यक्ति तथा उत्राण क्षेत्र निवासी 29 वर्षीय महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इन दोनों को सर्दी-खांसी तथा गले में तकलीफ की परेशानी थी। चिकित्सकों ने रिपोर्ट करवाई, जिसमें दोनों स्वाइन फ्लू पॉजिटिव पाए गए हैं। सूचना मिलने पर मनपा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पहुंच गए और उनके परिजनों को बीमारी के प्रति सावधान रहने की जानकारी दी।

 

अब तक शहर में स्वाइन फ्लू के चार पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इसमें तीन मरीज भर्ती हंै। दो मरीजों की हालत स्थिर बनी हुई है, जबकि एक मरीज की हालत गंभीर है। उसे वेंटिलेटर पर भर्ती कर उपचार दिया जा रहा है। रविवार को एक पॉजिटिव मरीज को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई है।

 

 


गुजरात के विकास में ओडिशा वासियों का योगदान- रूपाणी, ओडिशा पर्व के उद्घाटन समारोह में बोले मुख्यमंत्री

सूरत. रविवार से शुरू हुए ओडिशा पर्व के उद्घाटन के दौरान गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि गुजरात के विकास में ओडिशा वासियों का बड़ा योगदान है।

 

सरसाणा के कन्वेन्शन हॉल में ओडिशा पर्व का उद्घाटन करने के बाद उन्होंने कहा कि इस पर्व ने गुजरात और ओडिशा राज्य की संस्कृतिक धरोहर के बीच सेतु का निर्माण किया है। गुजरात निवेश के लिए लोगों की पहली पसंद बना है। लोगों को यहां अवसर नजर आते हैं। यहां की शांति, सलामती, वैश्विक स्तर की बुनियादी सेवा और जीरो टोलरेन्स नीति लोगों को आकर्षित कर रही है।

 

ओडिशा भगवान जगन्नाथ की भूमि है और गुजरात भगवान कृष्ण की विरासत है। अहमदाबाद में भी जगन्नाथ यात्रा का बहुत महत्व माना जाता है। भारत सनातन काल से संस्कृति और विरासत की भूमि रहा है। यहां अलग-अलग भाषा और संस्कृति के बाद भी अनेकता में एकता के दर्शन होते हैं। दूध में जिस तरह शक्कर मिल जाती है, उसी तरह ओडिशावासी गुजरात के लोगों के साथ मिल गए और आर्थिक विकास में भागीदार बन गए हैं। ओडिशावासियों की मेहनत के कारण सूरत को आर्थिक नगरी होने की पहचान मिली है। इस अवसर पर केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने बताया कि सूरत के विकास में ओडिशावासियों की मेहनत है।

 

गुजरात ने ओडिशावासियों को आसरा दिया है और स्वाभिमानी बनाया है, इसलिए सूरत में ओडिशा पर्व मनाया जाता है। इस अवसर पर आदिजाति विकास मंत्री गणपत सिंह वसावा, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री ईश्वर परमार, मेयर जगदीश पटेल, सांसद सीआर पाटिल, दर्शना जरदोष, कलक्टर धवल पटेल सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned