scriptUS Intervention In India Election System By Social Media Companies | सोशल मीडिया के सहारे भारत के चुनावों में अमरीका का दखल | Patrika News

सोशल मीडिया के सहारे भारत के चुनावों में अमरीका का दखल

  • कोरोनाकालीन चुनाव: सोशल मीडिया पर राजनीतिक दलों की निर्भरता को चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप की आहट मान रहे विशेषज्ञ

सूरत

Published: February 20, 2022 08:30:02 pm

राम नरेश गौतम
जयपुर. अमरीकी राष्ट्रपति के 2016 और 2020 के चुनावों में रूस के दखल का मुद्दा अमरीका में अब भी तरोताजा है। मगर इस पर बहस नहीं होती कि भारतीय चुनावों में 'विदेशी दखल' किस स्तर तक पहुंच गया है।
सोशल मीडिया के सहारे भारत के चुनावों में अमरीका का दखल
सोशल मीडिया के सहारे भारत के चुनावों में अमरीका का दखल
2004 में फेसबुक, 2005 में यूट्यूब और 2006 में ट्विटर की शुरुआत होती है और कुछ साल बाद आज 2022 में हालात हैं कि इन अमरीकी कंपनियों पर भाजपा, कांग्रेस जैसे बड़े दलों से लेकर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) जैसे क्षेत्रीय दल तक निर्भर होकर रह गए हैं।
सभी कोई इन प्लेटफॉर्म पर मौजूदगी बढ़ाना चाहता है इसके लिए आईटी विंग का गठन किया गया है, लाखों गु्रप तैयार किए गए हैं।

यह भी पढ़ें
डेढ़ दशक में सोशल मीडिया पर हुए भारी बदलाव

विशेषज्ञ इस बात से इनकार नहीं करते हैं कि ये कंपनियां किसी खास विचारधारा या पार्टी के समर्थकों के अकाउंट से पोस्ट होने वाले कंटेंट को वायरल करवा सकती हैं या उस कंटेंट को ज्यादा लोगों तक पहुंचने से रोक सकते हैं।


क्यों उठ रहे सवाल
अगस्त 2020 में फेसबुक की कंटेंट पॉलिसी को लेकर सवाल उठे और आरोप लगे कि भारत में खास विचारधारा से जुड़े पोस्ट को रोकने के नियम लागू करने में पक्षपात है। वॉट्सएप और इंस्टाग्राम फेसबुक के अधीन हैं।
दिसंबर 2021 में ट्विटर के सीईओ से पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनके अकाउंट के फॉलोवर्स कम होने की शिकायत की और यह भी कहा था कि 'भारत के विनाश में मोहरा न बनें'। ट्विटर और यूट्यूब भी अमरीकी मालिकाना हक वाली कंपनियां हैं।

इन विधानसभा चुनावों में यूट्यूब, वॉट्सऐप और फेसबुक में परोसा जा रहा कंटेंट शहरों से गांवों तक मतदाताओं को प्रभावित कर रहा है। विदेशी कंपनियों पर राजनीतिक दलों की निर्भरता लोकतंत्र के लिए सही नहीं है।
-प्रो. रविकांत, लखनऊ विश्वविद्यालय, उत्तरप्रदेश।
सोशल मीडिया के सहारे भारत के चुनावों में अमरीका का दखलजमीन से ज्यादा 'चुनावी गर्मी' वर्चुअल दुनिया में
भारत के चुनावी तंत्र में राजनीतिक पार्टियां सफलता के अपने पारंपरिक मंत्र बदलने को मजबूर हो गई हैं। वॉल पेंटिंग, पम्फ्लेट्स, पर्चे, बोर्ड, होर्डिंग, बैनर, झंडे, बैज का युग बीत गया।
अब वर्चुअल रैली, वर्चुअल कॉन्फ्रेंस, हैशटैग, टूलकिट, प्रोपेगेंडा फैलाने वाले वीडियो-ग्राफिक्स, वायरल मैटेरियल, कंटेंट शेयरिंग के सहारे चुनावी महौल बनाने का जमाना है।

चुनाव की जितनी गर्मी जमीन पर नजर नहीं आती उससे कई गुणा आंच फेसबुक, ट्विटर, यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम, वॉट्सऐप, टेलीग्राम पर महसूस की जा सकती है।
ये सभी कंपनियां अमरीकी हैं। ऐसे में विशेषज्ञ सवाल उठा रहे हैं कि अमरीकी हितों के दबाव में ये कंपनियां पार्टी विशेष को नफा या नुकसान पहुंचा सकती हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

जापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातज्ञानवापी मस्जिद मामलाः सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई एक और याचिका, जानिए क्या की गई मांगऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में भीषण सड़क हादसा, पूर्णिया में ट्रक पलटने से 8 लोगों की मौतश्रीनगर पुलिस ने लश्कर के 2 आतंकवादियों को किया गिरफ्तार, भारी संख्या में हथियार बरामदGood News on Inflation: महंगाई पर चौकन्नी हुई मोदी सरकार, पहले बढ़ाई महंगाई, अब करेगी महंगाई से लड़ाईकोरोना वायरस का नहीं टला है खतरा, डेल्टा-ओमिक्रॉन के बाद अब दो नए सब वैरिएंट की दस्तक से बढ़ी चिंता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.