इलेक्ट्रोनिक्स गैजेट, ज्वैलरी, डायमंड और सब्जी समेत को सेनेटाइज करने के लिए बनाया यूवी सेनेटाइडर बॉक्स

कोरोना काल में सूरत के उद्यमी पीपीई किट और लॉ कॉस्ट वेटिंलेटर का भी कर चुके हैं आविष्कार
सक्रमण को रोकने के लिए डायमंड इंडस्ट्री में यूवी सेनेटाइजर बॉक्स की अधिक डिमांड

By: Sandip Kumar N Pateel

Published: 29 Jun 2020, 02:34 AM IST

सूरत. कोरोना महामारी की विकट परिस्थिति को भी सूरत के उद्यमियों ने अवसर में बदल दिया हैं। पीपीई किट और सस्ते वेटिंलेटर के निर्माण के बाद अब सूरत की एक कंपनी ने ऐेसा यूवी सेनेटाइजर बॉक्स बनाया है, जो सिर्फ 30 सेंकड में इलेक्ट्रोनिक गैजेट, डायमंड, ज्वैलरी, सब्जी आदि चीजों को सेनेटाइज कर देता है।


कोरोना महामारी के कारण मास्क और सेनेटाइजर जीवन का हिस्सा बन चुके हैं। वायरस के संक्रमण से बचने के लिए व्यक्ति खुद को तो सेनेटाइज करने लगा है, साथ ही जो चीजें का वह रोजर्मरा के जीवन में उपयोग करता है उन्हें भी सेनेटाइज कर रहा है। मोबाइल फोन, घड़ी, टेबलेट जैसे इलेक्ट्रोनिक गैजेट समेत कई ऐसी चीजें है जिन्हें साबून या किसी प्रवाही से साफ नहीं किया जा सकता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सूरत की फोटोन टेक्नोलॉजी को यूवी सेनेटाइजर बॉक्स बनाने का विचार आया और उन्होंने इसका आविष्कार कर दिया। इस सेनेटाइज बॉक्स से मोबाइल फोन, घड़ी, टेबलेट, रूमाल, बेल्ट, सब्जी, डायमंड, ज्वैलरी समेत की चीजें सिर्फ 30 सेंकड में सेनेटाइज की जा सकती हैं।

सिर्फ एक से सवा किलो वजन


कंपनी की ओर से दो अलग-अलग साइज में यूवी सेनेटाइज बॉक्स का निर्माण किया गया है और वजन महज एक से सवा किलो जितना है। साइज 15 बाय 8 बाय 7.25 इंच है और वर्किंग एरिया 12.25 बाय 6 बाय 5 इंच है। 9 से 11 हजार रुपए तक बॉक्स की कीमत है।

ऐसे करता है काम


कंपनी के सीईओ हितेश वाछाणी ने बताया कि यूवी सेनेटाइज बॉक्स पूरी तरह ऑटोमेटिक है। यूवी के यूवी-ए, यूवी-बी और यूवी-सी तीन तरह के किरण होते है। यह बॉक्स यूवी-सी प्रकार के यानी 100 से 280 नेनो मीटर के किरण उत्पन्न करता है, जिससे हर तरह के जम्र्स और बेक्टिरियां 99.9999 प्रतिशत मर जाते हैं। व्यक्ति को किरणों की असर ना हो इसलिए बॉक्स को इस तरह डिजाइन किया गया है कि बॉक्स का दरवाजा खोलते ही वह बंद हो जता है और बंद करने पर सेनेटाइज की प्रक्रिया शुरू होती है।


डायमंड इंडस्टी में सबसे अधिक मांग


कंपनी के टेक्नीकल ऑफिसर भद्रेश पटेल ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए हर कोई व्यक्ति किसी ना किसी तरह का उपाय आजमा रहा है। सूरत में इन दिनों डायमंड इंडस्ट्री से जुड़े लोग सुपर स्प्रेडर बने हुए हैं। हीरे के जो पैकेट्स होते है वह कई व्यक्तियों के हाथों से गुजरते है, ऐसे में संक्रमण का खतरा बना रहता है। मनपा आयुक्त ने भी हीरे के पैकेट्स को सेनेटाइज करने का आदेश दिया है, ऐेसे में यूवी सेनेटाइज बॉक्स ने हीरा उद्यमियों का काम आसान कर दिया है। रोजाना 6 से 7 बॉक्स की डिमांड अकेले डायमंड इंडस्ट्री से आ रही है। मुंबई से भी इसकी मांग हो रही है।


यूरोपियन स्टांडर्ड के अनुरूप


हितेश वाछाणी ने बताया कि बॉस्टन यूनिवर्सिटी के रिसर्च को ध्यान में रखते हुए यूवी सेनेटाइज बॉक्स का निर्माण किया गया है, जो इलेक्ट्रीक में यूरोपियन स्टांडर्ड के अनुरूप है। सीई प्रमाणपत्र के लिए कंपनी की ओर से प्रक्रिया भी शुरू की गई है।

Sandip Kumar N Pateel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned