वैट के रवैए से व्यापारी नाराज

राज्य सरकार नए व्यापारियों को जल्द से जल्द रजिस्ट्रेशन देने का दावा कर रही है, जबकि हकीकत कुछ और है।

By: मुकेश शर्मा

Published: 29 Jun 2016, 11:54 PM IST

सूरत।राज्य सरकार नए व्यापारियों को जल्द से जल्द रजिस्ट्रेशन देने का दावा कर रही है, जबकि हकीकत कुछ और है। सूरत वैट विभाग में नया रजिस्ट्रेशन लेने के लिए कई व्यापारी बैंक में डिपोजिट जमा करा चुके हैं, लेकिन उन्हें रजिस्ट्रेशन नहीं मिल रहा है।

वैट विभाग ने पिछले दिनों एक परिपत्र जारी किया था। इसके अनुसार 31 मई के बाद नए व्यापारियों को रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन करना था और डिपोजिट भी ऑनलाइन जमा करना था। पहले यह मेन्युअली स्वीकार किया जाता था। यह परिपत्र व्यापारियों के लिए मुसीबत बन गया है। कई व्यापारियों ने 31 मई से पहले बैंक में मेन्युअली 45 हजार रुपए बतौर डिपोजिट जमा करवाए थे।

इसका चालान विभाग में जमा कराने के बाद रजिस्ट्रेशन नंबर मिलता है, लेकिन विभाग के अधिकारी मेन्युअली चालान स्वीकार नहीं कर रहे हैं। वह ऑनलाइन डिपोजिट के लिए कहते हैं। अधिकारियों के इस रवैए से व्यापारी परेशान है। वह 45 हजार रुपए पहले ही भर चुके हैं। अब उन्हें फिर से डिपोजिट भरने को कहा जा रहा है।
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned