दो महीने में ही वलसाड जिले में उल्टी दस्त के दो हजार से ज्यादा केस

वायरल बीमारों की संख्या में भी बढ़ोतरी

By: Gyan Prakash Sharma

Published: 13 Sep 2021, 01:10 AM IST

वापी. वलसाड जिले में बीते कुछ दिनों से वायरल बुखार और उल्टी दस्त के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इस तरह के मामले से लोगों के साथ ही स्वास्थ्य महकमे की भी चिंता बढ़ गई है. वलसाड सिविल अस्पताल सहित सीएचसी और पीएचसी केन्द्रों पर उल्टी दस्त के करीब 1200 केस सामने आए हैं। बीते दो माह के दौरान ही शंकास्पद डेंगू के मामले भी पांच सौ से ज्यादा मिले हैं। वायरल बुखार बढऩे के बाद से स्वास्थ्य महकमा भी सक्रिय हुआ है। बरसात के दिनों में ज्यादातर विस्तारों में सड़क किनारे एवं घरों के आसपास जलभराव के कारण मच्छर जनित रोगों के बढऩे की बात कही जा रही है। एक जानकारी के अनुसार वलसाड तालुका में उल्टी दस्त के 341, धरमपुर तालुका में 388, कपराडा में 233, पारडी में 105, वापी 104, उमरगाम में 42 केस सामने आए हैं। जबकि बुखार के धरमपुर में 1910, वापी में 1181, पारडी में 1140, वलसाड में 1021, कपराडा में 50 मामले मिले हैं। हालांकि निजी क्लीनिकों व अस्पतालों को जोड़े को यह आंकड़ा और ज्यादा हो जाता है। बढ़ते मामले के लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा सर्वे सहित जरूरी कार्यवाही शुरू कर दी गई है।

वायरल बीमारियों के रोगियों में वृद्धि


सिलवासा. जलवायु परिवर्तन के साथ मौसमी रोगियों की संख्या बढ़ गई हैै। श्री विनोबा भावे सिविल अस्पताल में मरीजों की भारी भीड़ होने लगी है। निजी चिकित्सकों के यहां भी मरीजों की भीड़ लगी है। डॉक्टरों के अनुसार इन दिनों वायरल बुखार, टाइफाइड, मियादी बुखार, ज्वर, डेंगू व पीलिया के रोगियों की संख्या बढ़ गई है। जिले में बुखार के साथ डेंगू के रोगियों की संख्या बढ़ी है। अस्पतालों में सबसे अधिक मरीज खांसी, जुकाम व बुखार के आ रहे हैं। श्री विनोबा भावे सिविल अस्पतालों में नामांकन कराने व जांच एवं दवा लेने के लिए मरीजों को लम्बी कतारें सुबह से लग रही है। डॉक्टरों के अनुसार इस साल वायरल बुखार के ज्यादा केस आ रहे हैं। बदलते मौसम में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित हुई है।

Gyan Prakash Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned