खाडिय़ों में पानी और दिलों में बढ़ रही दहशत

तापी में भी पानी का स्तर बढ़ा, नदी ने दोनों किनारे छुए, खाडिय़ों पर मनपा प्रशासन की नजर

By: विनीत शर्मा

Updated: 23 Sep 2020, 09:03 PM IST

सूरत. शहर और ऊपरी इलाकों में बीते दो दिनों से हो रही बारिश ने जहां खाडिय़ों में पानी का लेवल बढ़ाया है, खाड़ी किनारे रह रहे लोगों के दिलों की धड़कन भी बढ़ा दी है। मनपा प्रशासन भी खाडिय़ों में बढ़ रहे पानी को लेकर परेशान है और स्थिति पर नजर बनाए हुए है।

इस मानसून चार बार ऐसे मौके आए हैं, जब खाड़ी किनारे रह रहे लोगों को पानी के कारण नजरबंदी जैसे माहौल में रहना पड़ा है। बीती 14 अगस्त के बाद बार-बार जलस्तर बढऩे से खाड़ी उफनीं और दायरे पार कर पानी आबादी में घुस गया। सबसे ज्यादा असर लिंबायत जोन में मीठी खाड़ी क्षेत्र के आसपास रह रहे लोगों पर पड़ा। मीठी खाड़ी से पानी बाहर आया तो आवासीय इलाकों और सड़कों पर फैल गया। कई बार नाव चलाने तक की नौबत आ चुकी है। मनपा अधिकारियों के लिए कोरोना संक्रमण के बीच पानी में फंसे लोगों का रेस्क्यू करना भी चुनौतीभरा रहा है। इस बीच मीठी खाड़ी वर्ष 2006 के लेवल को भी पार कर चुकी है।

स्थिति यह है कि खाड़ी में पानी बढ़ते ही प्रभावित इलाकों में रह रहे लोगों की धड़कन बढऩे लगती है। शहर में दो दिनों से हुई जबरदस्त बारिश के कारण एक बार फिर खाड़ी में पानी का स्तर बढऩे लगा है। यह देख लोग दहशत में हैं कि पानी और बढ़ा तो फिर दायरे पारकर आबादी में घुसकर उनकी आफत बढ़ाएगा। उधर, मनपा की लिंबायत जोन टीम भी मीठी खाड़ी का जलस्तर बढऩे से चिंता में है।

पहली बार उफनी थी खाड़ी

बीती 14 अगस्त को जब मौसम में पहली बार खाडिय़ां उफनी थीं, शहर के प्रभावित इलाकों में बाढ़ के हालात बन गए थे। इस बार फिर पानी ने खाड़ी पार की तो सीजन में यह पांचवा अवसर होगा जब एक बार फिर इलाके में बाढ़ के हालात बनेंगे और निचले इलाकों और हाइराइज सोसायटियों में रह रहे लोगों को अपने ही घरों में बंद रहना होगा।

अभी खतरे के निशान से नीचे

मीठी खाड़ी का खतरे का निशान 7.50 मीटर है। खतरे के निशान से ऊपर बहने के कारण बारिश का पानी खाड़ी में नहीं जाता तो किनारे के इलाकों में बाढ़ की स्थिति बनती है। फिलहाल मीठी खाड़ी खतरे के निशान से करीब डेढ़ फीट नीचे है, लेकिन बारिश का जोर बढ़ा तो इसे खतरे का निशान पार करते देर नहीं लगेगी। अधिकारी खाड़ी में पानी की स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।

विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned