ट्रांसपोर्ट हड़ताल का असर वीवर्स तक

ग्रे की खरीद नहीं होने से कारखानों में स्टॉक बढ़ा, ट्रांसपोर्टर्स पांच दिन से नहीं ले रहे पार्सल

By: विनीत शर्मा

Published: 05 Oct 2015, 08:46 PM IST

सूरत. पांच दिन से देशभर में चल रही ट्रांसपोर्ट हड़ताल का असर व्यापारियों के साथ अब कारखाना संचालकों पर भी पडऩे लगा है। माल नहीं बिकने के कारण व्यापारियों ने नए ग्रे की खरीद पर ब्रेक लगा दिया है। इससे कारखानों में ग्रे का स्टॉक जमा हो गया है।
कपड़ा उद्योग के सूत्रों के अनुसार कई महीनों से मंदी के कारण लाचार वीवर्स को दीपावली के एक महीने पहले बाजार में तेजी की आशा थी, लेकिन खरीद शुरू होने से पहले ही ट्रांसपोर्ट हड़ताल ने उनकी आशाओं पर पानी फेर दिया है। सूरत में पांच दिन से ट्रांसपोर्टर्स कपड़ों के पार्सल नहीं ले जा रहे हैं। इससे पार्सलों का ढेर दुकान पर ही पड़ा है। ऐसे में व्यापारी नया ग्रे नहीं मंगाना चाहते। वह हड़ताल समाप्त होने का इंतजार कर रहे हैं। ग्रे नहीं बिकने के कारण कपड़ों के कारखानों और गोडाउन में ग्रे का ढेर लग गया है। हड़ताल लंबी चली तो ग्रे नहीं बिकने के कारण वीवर्स की परेशानी बढ़ेगी। वीवर कृष्णकांत खरवर ने बताया कि ट्रांसपोर्ट हड़ताल के कारण ग्रे की बिक्री पर ब्रेक लगने से व्यापारी परेशान हैं।
Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned