लक्ष्य से क्यों पिछड़ी डीजीवीसीएल?

दस हजार घरों तक भी नहीं पहुंचा सोलर पैनल का आंकड़ा, मार्च २०२० तक दो लाख घरों तक पहुंचाने हैं सोलर पैनल

By: विनीत शर्मा

Published: 08 Dec 2019, 07:24 PM IST

सूरत. सौर शहर सूरत में सोलर पैनल को लेकर मनपा प्रशासन का प्रदर्शन जहां देशभर के शीर्ष सौर शहरों में शामिल है, डीजीवीसीएल लक्ष्य तक पहुंचने में लडख़ड़ा गई है। डीजीवीसीएल के प्रयासों से सूरत शहर और जिले में 41 हजार के लक्ष्य के सामने महज 9271 घरों तक ही सोलर पैनल पहुंच सके हैं।

जलवायु परिवर्तन रोकने के लिए सूरत की पहल- सूरत हर साल बचा रहा 70 हजार टन कार्बन एमिशन

सौर ऊर्जा के क्षेत्र में सूरत ने हालांकि ऊंची छलांग लगाई है, लेकिन डीजीवीसीएल के लिए लक्ष्य तक पहुंचना मुश्किल हो रहा है। डीजीवीसीएल को बीती दो दिसंबर तक 41 हजार घरों में 124 मेगावाट क्षमता के सोलर पैनल लगाने थे। इस समय तक 9271 घरों में महज 36.31 मेगावाट क्षमता के सोलर पैनल ही लग सके हैं।

यह भी पढें- सोलर एनर्जी में सूरत की लंबी छलांग

डीजीवीसीएल के लिए यह आंकड़ा इसलिए भी मुश्किल भरा है कि आने वाले तीन महीनों में राह और दुष्कर होने जा रही है। केंद्र सरकार ने सोलर पैनल से देशभर में 2022 तक 40 गीगावॉट ऊर्जा उत्पादन का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को आसान बनाने के लिए द एनर्जी एंड रिसोर्सेस इंस्टीट्यूट (टेरी) ने गुजरात को रूफटॉप सोलर प्रोजेक्ट आई-स्मार्ट में शामिल किया है। आइ स्मार्ट में गुजरात की बड़ी भागीदारी को देखते हुए राज्य सरकार ने डीजीवीसीएल को बड़ा लक्ष्य दिया है। डीजीवीसीएल को सूरत शहर एवं जिले में मार्च 2020 तक दो लाख घरों में रूफटॉप सोलर पैनल इंस्टाल कराने हैं।

2021-22 में और छह लाख

एक सर्वे के मुताबिक सूरत में दो सौ मेगावाट से अधिक का लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। जिसके बाद राज्य सरकार ने वर्ष 2021-22 में डीजीवीसीएल को और छह लाख घरों तक सोलर पैनल इंस्टाल कराने का लक्ष्य दिया हुआ है।

नई पॉलिसी में 40 फीसदी तक सब्सिडी

गैर पारंपरिक स्रोतों के तहत सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए केंद्र ने नई पॉलिसी तय की है। इसके तहत डॉमेस्टिक सेग्मेंट में ४० फीसदी तक सब्सिडी दी जाएगी। यह सब्सिडी तीन किलोवाट क्षमता तक के सोलर पैनल को इंस्टाल कराने पर मिलेगी। तीन से दस केवी क्षमता के सोलर प्लांट लगाने पर सब्सिडी घटकर २० फीसदी रह जाएगी। कमर्शियल सेग्मेंट में किसी तरह की सब्सिडी नहीं दी जाएगी। एक अनुमान के मुताबिक प्रति एक किलोवाट सोलर पैनल इंस्टाल कराने पर करीब ४२ हजार रुपए का खर्च आता है।

Show More
विनीत शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned