श्रमिक अभी तक वतन से नहीं लौटने के कारण कारखाने बंद करने की नौबत

यार्न की कीमत घटी, डिमांड बढऩे की उम्मीद

By: Pradeep Mishra

Published: 25 Nov 2018, 07:36 PM IST


सूरत
दिवाली के बाद से लगातार क्रूड ऑइल में घटती कीमतों के कारण यार्न के कच्चे माल एमइजी और पीटीए की कीमत घटने से यार्न उत्पादकों ने भी यार्न की कीमत कम की है। पिछले सप्ताह में भी यार्न उत्पादकों ने दाम घटाकर सौदा किया।
यार्न बाजार के सूत्रों के अनुसार बीते सप्ताह यार्न बाजार में काम-काज कम रहा। ज्यादातर लूम्स कारखाने बंद रहे, जो कारखाने खुले उनमें भी सिर्फ एक शिफ्ट में काम चला। अन्य राज्यों के श्रमिक अभी तक वतन से नहीं लौटने के कारण कारखाने बंद करने की नौबत है। दूसरी ओर क्रूड ऑइल की घटती कीमतों के कारण यार्न की कीमत पर असर पड़ा है। यार्न व्यवसायी फोरम घीवाला और बकुलेश पंड्या ने बताया कि दिवाली के बाद लूम्स कारखाने शुरू हुए हैं, लेकिन यार्न का कामकाज ठंडा है। यार्न ेंमें कारोबार कम होने के कारण उत्पादकों के पास यार्न का स्टोक हो गया है। अब वह स्टोक खत्म करने का इंतजार कर रहे हैं लेकिन बिक्री नहीं हो रही। ऐसे में कुछ यार्न व्यवसायी दाम तोड़कर भी व्यापार कम कर रहे हैं। आगामी दिनों में लग्नसरा होने के कारण यार्न की डिमांड निकलेगी लेकिन क्रूड ऑइल और यार्न के कच्चे माल की कीमत घटने से आगामी दिनों में बिक्री पर आधारित रहेगी। अभी व्यापार को गति पकडऩे में कुछ दिन और लग सकते हैं।

कई कपड़ा उद्यमियों ने महाराष्ट्र के नवापुर में अपने कारखाने शुरू कर दिए
सूरत का कपड़ा उद्योग इन दिनों भयानक मंदी के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में महाराष्ट्र सरकार वहां के कपड़ा उद्यमियों को लगातार नई राहतें दे रही है। यदि गुजरात सरकार ने सूरत के कपड़ा उद्यमियों को राहत नहीं दी तो सूरत के कपड़ा उद्यमी महाराष्ट्र में शिफ्ट हो जाएगें। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में सूरत बहुत कम कीमत पर बिजली मिलने के कारण पहले से ही सूरत के कई कपड़ा उद्यमियों ने महाराष्ट्र के नवापुर में अपने कारखाने शुरू कर दिए हैं। यहां के उद्यमी पिछले एक साल से टैक्सटाइल पॉलिसी में बिजली दर घटाने और ब्याज सब्सिडी पांच से सात प्रतिशत करने सहित टफ योजना का बैकलोग क्लीयर करने की मांग कर रहे हैं। यदि उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो सूरत से कपड़ा उद्योग का पलायन होने का भय है।

Pradeep Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned