वैज्ञानिक तरीके से बना है ये गणेश मंदिर

वैज्ञानिक तरीके से बना है ये गणेश मंदिर

Rakesh Mishra | Updated: 13 Jan 2015, 10:38:00 AM (IST) मंदिर

जबलपुर के देवताल के पहाड़ों पर स्थित है यह मंदिर, साइंटिफिक तरीके से लगाई गई है मूर्ति

जबलपुर। देश में आमतौर पर ऎसे कई मंदिर देखने मिल जाते हैं, जहां मन्नत पूरी करने के लिए तरह-तरह की विधियां पूरी करनी होती हैं। आस्था और श्रद्धा के इस सैलाब में लोग अक्सर ही अपनी परेशानियों को दूर करने के लिए किसी भी विधि को पूरा करने से पीछे नहीं हटते, लेकिन जबलपुर स्थित देवताल के पहाड़ों पर एक ऎसा मंदिर है। इस मंदिर को वैज्ञानिक दृष्किोण से बनाया गया है। मंदिर का हर कोना विज्ञान के मद्देनजर बना है। मूर्ति भी साइंटिफिक तरीके से ही लगाई गई हैं।

यहां स्थित गणेश प्रतिमा के दोनों ओर इंफानाइट ग्लास लगा हुआ है। इसके बारे में कहा जाता है कि भगवान गणेश की प्रतिमा से निकलने वाली ऊर्जा इंफानाइट ग्लास पर पड़ती है, जिसका लाभ दर्शन करने वाले श्रद्धालु को मिलता है। प्रतिमा की सकारात्मक ऊर्जा दर्शनार्थियों के लिए लाभकारी होती है। इस मंदिर को इसरो में अपनी सेवाएं दे चुके एक साइंटिस्ट शिवप्रसाद कोष्टा ने ही बनवाया है। उनका मानना है कि यहां आने वाल हर भक्त को दर्शनों का लाभ जरूर मिलता है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned